परिवहन मंत्रालय की तरफ से ये भी बताया गया है कि ये रिकॉल साउथ कोरिया में ही किया जाएगा जिसमें वाहनों की खराबी को जल्द से जल्द ठीक करके उसे ग्राहकों तक पहुंचा दिया जाएगा, हालांकि मंत्रालय की तरफ से इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं दी गई है कि इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकिंग सिस्टम में खराबी की वजह से कोई हादसा हुआ है या नहीं।

आपको बता दें कि इन वाहनों में खराब सॉफ्टवेयर के चलते इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकिंग सिस्टम काम नहीं कर रहा है। यह समस्या काफी गंभीर है और इसे जल्द से जल्द ठीक नहीं किया तो इससे हादसों में बढ़ोत्तरी हो सकती है। हालांकि ऐसा माना जा रहा है कि खराब को शुरुआती चरण में ही डिटेक्ट कर लिया गया है जिसके बाद वाहनों को ठीक करने के लिए उन्हें जल्द से जल्द रिकॉल किया जा सकता है।

हालांकि इस बारे में मंत्रालय की तरफ से कोई भी जानकारी नहीं दी गई है कि साउथ कोरिया के अलावा किसी अन्य मार्केट में भी ये रिकॉल किया जाएगा या नहीं। आपको बता दें कि Hyundai Kona Electric SUV यूरोप में सबसे ज्यादा बिकने वाली इलेक्ट्रिक कार है। घरेलू बाजार के बाहर इनकी बिक्री कुल तीन चौथाई से अधिक है।

जानकारी के अनुसार साउथ कोरिया में कुल 40,000 Kona Electric और हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहनों को रिकॉल किया जाएगा जिनका प्रोडक्शन मई 2019 से नवंबर 2020 के बीच किया गया है वहीं 10,138 नेक्सो फ्यूल सेल वाहनों को रिकॉल किया जाएगा जिन्हें जनवरी 2018 से नवंबर 2020 के बीच तैयार किया गया है। आपको बता दें कि Kia मोटर्स भी इसी खराबी की वजह से अतिरिक्त 1,895 सोल इलेक्ट्रिक कारों को रिकॉल करने की योजना बना रही है।

आपको बता दें कि दो साल में कोरिया, कनाडा और यूरोप में एक दर्जन से अधिक Hyundai Kona Electric SUV में आग लगने की घटनाएं सामने आ चुकी हैं जिसको देखते हुए Hyundai 74,000 Hyundai Kona Electric SUV को दुनियाभर से रिकॉल कर सकती है