Saturday, September 18, 2021
Homeमध्य प्रदेशमप्र : अब शेर और बाघ को भी ले सकेंगे गोद, ऐसे...

मप्र : अब शेर और बाघ को भी ले सकेंगे गोद, ऐसे लोगों की सफारी में जाने पर फीस में मिलेगी छूट

मध्यप्रदेश : आने वाले दिनों में लोग अपनी पसंद के वन्यजीवों को गोद ले सकेंगे। यह योजना व्हाइट टाइगर सफारी एंड जू में मौजूद वन्यजीवों पर लागू होगी। इस सम्बंध में सफारी प्रबंधन ने वन मंत्रालय मध्यप्रदेश शासन को विस्तृत प्रस्ताव बनाकर भेजा है। उम्मीद की जा रही है कि शीघ्र ही इसकी अनुमति भी मिल जाएगी। प्रस्ताव के मुताबिक वन्यप्राणी अंगीकार योजना में वह लोग शामिल हो सकेंगे, जो वन्यजीवों के भोजन आदि पर होने वाले खर्च को बहन करेंगे।

सफारी प्रबंधन की ओर से वन्यप्राणियों के भोजन और रख-रखाव पर होने वाले व्यय का आकलन प्रस्ताव के साथ भेजा गया है। अंतिम निर्णय राज्य शासन को ही करना है। इस बारें में वन संरक्षक राजीव मिश्र ने बताया, ‘‘वन्यप्राणी एडाप्सन स्कीम के लिए प्रदेश शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। जैसे ही मंजूरी मिलेगी, योजना अमल में आ जाएगी।’’

 

फीस मिलेगी छूट
वन्यप्राणियों गोद लेने वालों को सफारी प्रबंधन कुछ सुविधाएं देगा। मसलन ऐसे लोग समय-समय पर अपने परिवार जनों, अतिथियों को लेकर सफारी और जू का भ्रमण करा सकेंगे, उनको तय शुल्क में छूट रहेगी। कोई भी व्यक्ति एक माह से लेकर एक वर्ष तक के लिए वन्यप्राणी अंगीकार योजना का सदस्य बन सकेगा, यह उस व्यक्ति की इच्छा पर निर्भर होगा।

 

किस वन्यजीव पर कितना खर्च 

 

प्रजाति  वार्षिक         दैनिक 
टाइगर4 लाख 14 हजार1150 रुपए
लायन4 लाख 14 हजार1150 रुपए
तेंदुआ1 लाख 65600450 रुपए
भालू1 लाख 8 हजार300 रुपए
थामिन डियर90 हजार250 रुपए
चीतल36 हजार100 रुपए
कृष्ण मृग36 हजार100 रुपए
चिंकारा36 हजार100 रुपए
हॉग डियर36 हजार100 रुपए
सांभर90 हजार250 रुपए
नील गाय90 हजार250 रुपए
बारहसिंगा90 हजार250 रुपए
गौर3 लाख800 रुपए
भेंड़की20 हजार60 रुपए
जंगली सुअर54 हजार150 रुपए
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments