येलो अलर्ट के बाद मेट्रो ट्रेन के सफर में भी हुआ बदलाव, जारी की नई गाइडलाइन

0
25

राजधानी में ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार की ओर से येलो एलर्ट जारी कर दिया गया है। इस अलर्ट के बाद अब मेट्रो ने अपने यहां सिटिंग कैपेसिटी में भी बदलाव कर दिया है। मेट्रो के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि अब मेट्रो ट्रेन के अंदर केवल 50 फीसद बैठने की क्षमता के साथ ही चलेगी। मेट्रो में किसी भी यात्री को खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

मेट्रो ने अपने यहां सिटिंग कैपेसिटी में भी बदलाव कर दिया है। मेट्रो के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि अब मेट्रो ट्रेन के अंदर केवल 50 फीसद बैठने की क्षमता के साथ ही चलेगी।

उसी के मद्देनजर, दिशानिर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए स्टेशनों में प्रवेश के लिए खुले गेटों की संख्या को सीमित करके मेट्रो स्टेशनों में प्रवेश को नियंत्रित किया जाएगा। मेट्रो की ओर से जारी किए गए बयान में बताया गया है कि गाइडलाइंस के तहत अब मेट्रो के कुल 712 गेट में से 444 गेट ही खोले जाएंगे। इन्हीं में से यात्रियों को प्रवेश मिलेगा। अब मेट्रो के 9 फ्लाइंग स्कवायड अलग-अलग रूटों पर चलकर ऐसे यात्रियों के चालान भी कर रहे हैं जो ट्रेन में मास्क नहीं पहन रहे हैं।

देश में जब से कोरोनावायरस का संक्रमण फैलना शुरू हुआ है उसी के बाद से दिल्ली मेट्रो अपने यात्रियों से एहतियात बरतने की अपील करती रही है। मेट्रो की ओर से अपील की जाती रही है कि लोग सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाए और शारीरिक दूरी बनाए रखें जिससे संक्रमण न फैलने पाए। सरकारी और निजी महकमे लोगों से कोविड प्रोटोकाल का पालन करने के लिए कह रहे हैं। दिल्ली मेट्रो भी अपने यात्रियों से लगातार इसी तरह की अपील कर रहा है। दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन की ओर से अपने ट्विटर हैंडल से कोविड प्रोटोकाल को लेकर कई तरह के ऐसे ट्वीट भी किए जाते रहते हैं।

अपने ट्विटर हैंडल से मेट्रो ने एक ट्वीट किया है जिसमें उनकी ओर से यात्रियों से अपील की गई है कि वो यात्रा के दौरान हमेशा मास्क लगाकर रखें। कृपया मेट्रो प्रशासन का सहयोग करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here