Friday, September 17, 2021
Homeऑटोमोबाइलएमजी ने लॉन्च की भारत की पहली इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी ‘जेडएस ईवी’

एमजी ने लॉन्च की भारत की पहली इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी ‘जेडएस ईवी’

नई दिल्ली। एमजी (मॉरिस गैराज) मोटर इंडिया ने गुरुवार को भारत की पहली प्योर इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी -जेडएस ईवी के लिए एंड-टू-एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल इकोसिस्टम लॉन्च किया। जेडएस ईवी स्वच्छ, कुशल और तेज पावरट्रेन के साथ एमजी की पहली प्योर इलेक्ट्रिक इंटरनेट एसयूवी है। दुनिया के सबसे बड़ी बैटरी निमार्ताओं में से एक सीएटीएल की नई एडवांस 44.5 केडब्ल्यूएच, लिक्विड-कूल्ड एनएमसी (निकल मैंगनीज कोबाल्ट) बैटरी, कार को फुल चार्ज होने पर 340 किलोमीटर की यात्रा के काबिल बनाती है। यह 353 एनएम का इंस्टैंट टॉर्क और 143 पीएस की शक्ति प्रदान करती है, जो खड़ी गाड़ी को 8.5 सेकंड में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ने में सक्षम बनाती है।

mg car electric
एमजी मोटर इंडिया ने मल्टी-स्टेप चाजिर्ंग इकोसिस्टम के लिए ईवी क्षेत्र में विभिन्न ग्लोबल और स्थानीय कंपनियों से साझेदारी की है। इसका उद्देश्य जेडएस ईवी ग्राहकों की आवश्यकताओं को पूरा करना है। प्रत्येक जेडएस ईवी कहीं भी चार्ज करने के लिए ऑन-बोर्ड केबल और घरों, कार्यालयों में चार्ज करने के लिए एसी फास्ट चार्जर के साथ आती है। कार निर्माता चुनिंदा एमजी शोरूमों पर एक डीसी सुपर-फास्ट चार्जिंग नेटवर्क भी स्थापित कर रहा है और प्रमुख मार्गों पर चुनिंदा सैटेलाइट शहरों में एमजी डीलरशिप पर विस्तारित चार्जिंग नेटवर्क बनाने की योजना बना रहा है।

mg car electric
सुपर-फास्ट डीसी चार्जर (50 किलोवॉट) के माध्यम से जेएस ईवी 50 मिनट के भीतर 80 प्रतिशत बैटरी क्षमता तक पहुंच जाएगी, जबकि घरों में स्थापित एसी फास्ट चार्जर्स को पूर्ण चार्ज में लगभग 6-8 घंटे लगेंगे।

mg car electric
एमजी मोटर इंडिया के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर राजीव चाबा ने कहा, “भारत में ईवी क्रांति के लिए एमजी मोटर इंडिया उत्साही है और उत्प्रेरक का काम कर रहा है। इसके जरिये एमजी ऊर्जा क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों के साथ मिलकर मजबूत, एंड-टू-एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल इकोसिस्टम बना रहा है। भारत की विशिष्ट आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए इसका व्यापक परीक्षण किया गया है। हम उम्मीद कर रहे हैं कि यह भारत में अपनी सफलता का परचम फहराएगी, जिसका श्रेय हम मजबूत ईवी इकोसिस्टम को दे रहे हैं। हम ग्राहकों के फीडबैक के आधार पर भारत भर के और अधिक बाजारों में इस इकोसिस्टम को लेकर जाने के अवसरों का आकलन करेंगे।”

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments