Friday, September 17, 2021
Homeब्रेकिंग न्यूज़कांगड़ा और पर्यटन नगरी मनाली में महसूस किए गए भूकंप के हल्के...

कांगड़ा और पर्यटन नगरी मनाली में महसूस किए गए भूकंप के हल्के झटके

हिमाचल प्रदेश में सोमवार की सुबह फिर धरती के नीचे उथल पुथल मची। इसके बाद सुबह करीब 4 बजे कांगड़ा और पर्यटन नगरी मनाली में भूकंप के झटके महसूस किए गए। हालांकि तीव्रता ज्‍यादा नहीं थी और किसी तरह के नुकसान की खबर भी नहीं है। लेकिन लोगों में दहशत है।

कांगड़ा जिला भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील श्रेणी में आता है।
  • 1905 में कांगड़ा में आए विनाशकारी भूकंप का दर्द और खौफ अभी तक लोगों के दिलों में है

भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 2.4 मापी गई है। भूकंप का केंद्र जमीन की सतह से 5 किलोमीटर नीचे मिला है। कांगड़ा जिला भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील श्रेणी में आता है। इसलिए यहां पर हलका सा भूकंप का झटका भी लोगों के दिलों में दहशत कर देता है।

1905 में कांगड़ा में आए विनाशकारी भूकंप का दर्द और खौफ अभी तक लोगों के दिलों में है। उस दौरान लाखों लोगों की जान गई थी व कई इमारतें ढह गई थीं। जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया था। बता दें कि जब टैक्टोनिक प्लेट में हलचल के कारण भूकंप के झटके महसूस किए जाते हैं।

भूकंप की दृष्टि से धर्मशाला जोन है संवेदनशील

हिमाचल प्रदेश में भूकंप की दृष्टि से धर्मशाला जोन संवेदनशील है। यहां पर वर्ष 1905 में बड़ा विनाशकारी भूकंप आया था। हजारों लोगों की जान चली गई थी। कुछ लोग ही जिंदा बचे थे, जो बेघर हो गए थे। हर जगह तबाही का मंजर था।

चंबा में आते हैं सबसे अधिक भूकंप

हिमाचल में सबसे अधिक भूकंप चंबा में आते हैं। इसके बाद किन्नौर, शिमला, बिलासपुर और मंडी संवेदनशील जोन में आते हैं। शिमला को लेकर भी चेतावनी दी गई थी कि यह शहर भूकंप जैसी आपदा के लिए तैयार नहीं है। किन्नौर में 1975 में बड़ा भूकंप आ चुका है।

वैज्ञानिकों का दावा है कि हिमालय के आसपास घनी आबादी वाले देशों में इससे भारी तबाही मच सकती है। शिमला और दिल्ली तो भूकंप के झटके सहने के लिए तैयार ही नहीं हैं। भूकंप वैज्ञानिकों का मानना है कि छोटे-छोटे झटके महसूस होते रहने से बड़े भूकंप का खतरा कम हो जाता है। लोग दहशत में रहते हैं, क्योंकि उन्हें डर है कि आगे यह तीव्रता ज्यादा हो सकती है। वैसे भी हिमाचल प्रदेश का अधिकतर क्षेत्र संवेदनशील जोन में आता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments