Monday, September 20, 2021
Homeराजस्थाननाबालिग से गैंगरेप का मामला निकला झूठा

नाबालिग से गैंगरेप का मामला निकला झूठा

भीलवाड़ा के मांडल थाना क्षेत्र में एक मंदिर में नाबालिग से गैंगरेप का मामला झूठा निकला है। 13 साल की युवती ने ही अपने गैंगरेप की कहानी रची थी। यह कहानी उसने आटा-साटा से हुए रिश्ते से परेशान होकर बनाई थी। इस रिश्ते के चलते पिछले कई दिनों से नाबालिग का मामा उसके साथ मारपीट कर रहा था। इसी कारण 10 अगस्त की रात को पीड़िता तंग आकर मंदिर परिसर में सुनसान जगह पर एक बरगद के नीचे जाकर सो गई। दूसरे दिन सुबह अपने अपहरण और गैंगरेप की कहानी बना दी।

मांडल सीओ सुरेंद्र कुमार ने बताया कि 11 अगस्त को नाबालिग के मामा ने अपनी भांजी के साथ गैंगरेप का मामला दर्ज करवाया था। पुलिस ने नाबालिग का मेडिकल मुआयना कराया। मेडिकल में किसी भी प्रकार से दुष्कर्म का जिक्र नहीं हुआ। उसे सखी सेंटर ले जाया गया। उससे पूछताछ की गई तो उसने अपना पूरा दर्द बयां कर दिया।

सीओ सुरेंद्र कुमार ने बताया कि नाबालिग के माता-पिता की 10 साल पहले मौत हो चुकी है। वह अपने ननिहाल में ही रह रही थी। नाबालिग और उसके मामा की शादी आटा-साटा प्रथा के तहत हुई थी। पिछले लंबे समय से मामा उसको ससुराल भेजने का दबाव बना रहा था। उसने ससुराल जाने से मना कर दिया था। इसके चलते सामने वाला परिवार उसके मामा की पत्नी को भी नहीं भेजा रहा था। इस कारण मामा काफी गुस्सा था। भांजी के बात नहीं मानने पर मामा ने कई बार उसके साथ मारपीट भी की थी।

4 में से एक मामा करता था अश्लील हरकतें

सखी सेंटर में पूछताछ में पीड़िता ने बताया कि उसके 4 मामा हैं। इसमें से एक मामा उसके साथ कई बार अश्लील हरकतें कर चुका था, जो उसे नापसंद था। 10 अगस्त की रात को उसके साथ मामा ने मारपीट की थी। उसके बाद वह नाराज होकर मंदिर में जाकर सो गई थी। सुबह उठकर उसने अपने गैंगरेप की कहानी बना दी।

युवकों की लोकेशन उनके घर पर ही थी

पीड़िता द्वारा गैंगरेप का आरोप लगाने के बाद पुलिस ने 3 लोगों को हिरासत में लिया था। जब तकनीकी तरीके से जांच की तो तीनों युवकों की लोकेशन उनके घर में ही आई। दो युवकों ने नाबालिग के साथ 2 दिन पहले छेड़छाड़ की थी। पुलिस इस संबंध में उनसे पूछताछ कर रही है।

माहौल बिगाड़ने वाले लोगों के खिलाफ होगी कार्रवाई

मांडल सीओ सुरेंद्र कुमार ने बताया कि पीड़िता द्वारा गैंगरेप का आरोप लगाने के बाद क्षेत्र में कई असामाजिक तत्वों ने संप्रदायिक माहौल बिगाड़ने की कोशिश भी की। पुलिस सभी लोगों को चिन्हित कर रही है। जल्द ही उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बाल कल्याण समिति को सौंपी नाबालिग

पूरे मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने नाबालिग को बाल कल्याण समिति को सौंपा दिया है। अब बाल कल्याण समिति द्वारा पीड़िता के रखरखाव या सुपुर्द करने की कार्रवाई की जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments