Tuesday, September 21, 2021
Homeखेलउइगरों का समर्थन : फुटबॉलर ओजिल बोले- चीन में मस्जिदें गिराई जा...

उइगरों का समर्थन : फुटबॉलर ओजिल बोले- चीन में मस्जिदें गिराई जा रहीं, मौलवी मारे जा रहे; दुनियाभर के मुस्लिम चुप

खेल डेस्क. फुटबॉल क्लब आर्सेनल के मेसुत ओजिल (31) ने चीन में उइगर मुस्लिमों की प्रताड़ना के खिलाफ आवाज उठाई है। उन्होंने शुक्रवार को कहा कि चीन में मस्जिदें गिराई जा रही हैं। वहां मौलवियों को मारा जा रहा, बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। इन सबके बावजूद दुनियाभर के मुसलमान और मुस्लिम देश खामोश हैं।

तुर्की मूल के ओजिल 2010 में वर्ल्ड कप जीतने वाली जर्मन फुटबॉल टीम के सदस्य रहे थे। वर्ल्ड कप के बाद गोल्डन बॉल के लिए चयनित खिलाड़ियों में वे टॉप-10 में शामिल थे। ओजिल पिछले साल तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोआन के साथ फोटो खिंचवाने के बाद चर्चा में आए थे। जर्मनी के फुटबॉल प्रशंसकों ने उनकी विश्वसनीयता पर सवाल उठाए थे। इसके बाद ओजिल ने जर्मनी की राष्ट्रीय टीम छोड़ दी थी।

किसी मुस्लिम की आवाज सुनाई नहीं देती: ओजिल

ओजिल ने ट्वीट किया, ‘‘कुरान जलाई जा रही है। मस्जिदें बंद की जा रहीं या तोड़ी जा रहीं। मुस्लिम स्कूलों (मदरसों) पर प्रतिबंध लगा दिया गया। एक-एक करके मुस्लिम धर्मगुरुओं (मौलवियों) को मारा जा रहा। भाइयो को मजबूरन शिविरों में भेजा जा रहा। दुनियाभर के मुस्लिम चुप हैं। उनकी आवाज कहीं नहीं सुनाई दे रही।’’

तुर्की उइगर मुस्लिमों का घर माना जाता है

फुटबॉलर ने यह पोस्ट ब्लू बैकग्राउंड पर लिखी। इस पर एक अर्धचंद्र और सितारा भी लगाया है। यह एक तरह का फ्लैग है, जिसे उइगर अलगाववादी इस्तेमाल करते हैं। तुर्की मध्य एशिया से पलायन करने वाले तुर्कों से बना देश है। यह लोग तुर्की भाषा बोलते हैं। यह देश उइगर मुस्लिमों का भी घर माना जाता है। तुर्की लगातार चीन से उइगर मुस्लिमों की समस्या का मामला उठाता आ रहा है।

शिनजियांग प्रांत में करीब 10 लाख उइगर मुस्लिम कैद
चीन सरकार ने शिनजियांग प्रांत में करीब 10 लाख उइगर मुस्लिमों शिविरों में कैद कर रखा है। इनसे संबंधित एक सरकारी रिपोर्ट पिछले ही महीने लीक हुई थी। इसको दुनिया के 17 मीडिया संस्थानों ने छापा था। इसके मुताबिक, उइगर मुस्लिम कैम्प से भाग न सकें, इसलिए उन्हें दो ताले वाले दरवाजों में रखा जाता है। उन पर 24 घंटे नजर रखी जाती है। टॉयलेट में भी उन पर सैनिकों की नजर होती है।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था कि चीनी अफसर शिनजियांग में मुस्लिमों के खिलाफ अत्याचार कर रहे हैं। अल्पसंख्यकों को दबाया जाता है। पोम्पियो ने चीनी सरकार से हिरासत में रखे गए सभी नागरिकों को जल्द रिहा करने और उनके खिलाफ क्रूरता तत्काल बंद करने की अपील की थी। वहीं, इसी साल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिकटॉक एप्प पर अमेरिकी लड़की फिरोजा अजीज वीडियो बनाकर उइगर मुस्लिमों का मुद्दा उठाया था। इसके बाद एप्प चलाने वाली बाइटडांस कंपनी ने उसका वीडियो हटा दिया था और अकाउंट ब्लॉक कर दिया था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments