Tuesday, September 28, 2021
Homeराजस्थानमां और परिजन होम क्वारेंटाइन, बेटी ने पीपीई किट पहन पूरी की...

मां और परिजन होम क्वारेंटाइन, बेटी ने पीपीई किट पहन पूरी की अंतिम रस्में, चिता सजा दी मुखाग्नि

कोरोना पाॅजिटिव के अंतिम संस्कार में जाने से लोग बचते हैं। लेकिन शिक्षक रामाकिशन अरोड़ा की बेटी ने न केवल बेटे का कर्तव्य पूरा किया, बल्कि अपने हाथों से पिता की चिता सजाई और अपने बेटे के साथ मुखाग्नि भी दी। प्रतापनगर स्थित महालक्ष्मी स्कूल के पास रहने वाले रामाकिशन कोरोना होने के बाद वसुंधरा अस्पताल में भर्ती थे। सोमवार सुबह उनका निधन हो गया।

शिक्षक रामाकिशन अरोड़ा की बेटी ने न केवल बेटे का कर्तव्य पूरा किया, बल्कि अपने हाथों से पिता की चिता सजाई और अपने बेटे के साथ मुखाग्नि भी दी।

उनके 3 बेटियां ही हैं। ऐसे में बड़ी बेटी रश्मि ने पिता के अंतिम संस्कार की रस्में निभाना तय किया। वह अस्पताल से ही एंबुलेंस में पीपीई किट पहनकर दो-तीन अन्य परिजनों के साथ सिवांची गेट स्थित श्मशान घाट पहुंचीं। जोधपुरी अरोड़ा खत्री समाज के अध्यक्ष जयप्रकाश अरोड़ा के सहयोग से रश्मि ने खुद पिता की चिता सजाई। बाद में साथ आए परिजनों के सहयोग से प्लास्टिक बैग में बंधी पिता की पार्थिव देह को चितास्थल तक लेकर गईं। बेटे विशु को पीपीई किट पहनाया व साथ लेकर पिता को मुखाग्नि दी।

कुछ परिचित भी साथ थे, संक्रमण के खौफ से श्मशान में नहीं आए

रश्मि की मां व अन्य परिजन होम क्वारेंटाइन हैं। एडीजे वन कोर्ट में कार्यरत रश्मि जोधपुर में ही ब्याही, जबकि दूसरी बहनों रेणुका व नेहा का विवाह दूसरी शहरों में हुआ। हालांकि तीनों बेटियां पिता की अंतिम श्वास तक पास ही थीं। कोरोना के बढ़ते खौफ के बीच कुछ परिचित भी श्मशान तो पहुंचे, लेकिन वे बाहर ही खड़े रहे। लोगों के लिए पीपीई किट भी साथ लाए थे, लेकिन किसी ने पहने नहीं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments