Tuesday, September 28, 2021
Homeराजस्थानराजस्थान : एनजीटी के इसरो को निर्देश- जाेधपुर में प्रदूषण फैलाने वाली...

राजस्थान : एनजीटी के इसरो को निर्देश- जाेधपुर में प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों पर सैटेलाइट से नजर रखें

जोधपुर. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने औद्योगिक इकाइयों से फैल रहे प्रदूषण को रोकने के लिए एक और बड़ा फैसला लिया है। अब खुले या नदी-नालाें में केमिकल युक्त पानी छाेड़ने वाली फैक्ट्रियों पर सैटेलाइट से नजर रखी जाएगी। यह जिम्मेदारी रीजनल रिमोट सेंसिंग सेंटर इसरो को दी गई है।

शुक्रवार काे एक रिट याचिका की सुनवाई करते हुए एनजीटी ने इसरो के स्थानीय जनरल मैनेजर एसएस राव को निर्देश दिए कि वे शहर के अंदर और आसपास की इंडस्ट्रीज पर उच्च क्षमता वाले सैटेलाइट से निगरानी रखें और उन इंडस्ट्रीज की एरियल फोटो लें, जो खुले में नदी-नालों में केमिकल युक्त पानी छोड़ती हो। फिर इसकी रिपोर्ट एनजीटी को दें। फोटोग्राफी का पूरा खर्च पॉल्यूशन विभाग वहन करेगा। मामले की अगली सुनवाई 30 अगस्त को होगी।

सरकार को एसटीएफ के लिए नया पद सृजित करने के निर्देश
एनजीटी ने राज्य सरकार को कहा कि वो स्पेशल टास्क फोर्स के इंचार्ज के लिए एक स्पेशल पोस्ट सृजित करें। इंडस्ट्रीज से होने वाले नुकसान का जायजा लेकर रिपोर्ट तैयार करेंगे। सुनवाई में पुलिस कमिश्नर को कहा कि वो एक डीसीपी या डीआईजी स्तर के अधिकारी को नियुक्त करें, जो एसटीएफ और पुलिस के बीच कड़ी का काम करें। वह एक नोडल अधिकारी के रूप में काम करेंगे। यह एसटीएफ की कार्रवाई पर रिपोर्ट बनाएंगे और जांच करेंगे।

अवैध बोरवेल खुदवाने पर भी होगी कार्रवाई

एनजीटी ने सीजीडब्ल्यूए को निर्देश दिए हैं कि ऐसी इंडस्ट्रीज जो अवैध बोरवेल खुदवाकर ग्राउंड वाटर निकाल रही हो, उस पर सख्त कार्रवाई करें। बिना विभाग की परमिशन के ग्राउंड वाटर यूज नहीं कर सकते। अगर आवश्यकता पड़े तो कार्रवाई के लिए एसटीएफ की मदद भी लें। इसके अलावा संबंधित विभाग, डिस्कॉम और जिला प्रशासन की मदद भी ले सकते हैं। अगर जांच में यह पता चल जाता है कि वो ग्राउंड वाटर का अवैध रूप से इस्तेमाल कर रहे थे तो उन पर पर्यावरण जुर्माना भी लगाना चाहिए।

एसटीएफ से कहा- केवल प्रदूषण की राेकथाम करें
एनजीटी ने कहा कि एसटीएफ गत 17 मई को दिए आदेशों की अनुपालना नहीं कर रही है। पॉल्यूशन के साथ-साथ एसटीएफ पुलिस का नियमित काम भी कर रही है। जबकि उसे केवल पॉल्यूशन फैलाने वालों के खिलाफ ही कार्रवाई करनी चाहिए। एसटीएफ पूरी ताकत के साथ काम नहीं कर रही। ना ही एसटीएफ में तय स्वीकृत पद पर नियुक्तियां नहीं हुई हैं। इसके अलावा एसटीएफ को मासिक रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं।

इसरो रिसेट-2 सैटेलाइट से रख सकता है हर समय नजर

  • 20 अप्रैल 2009 को यह सैटेलाइट छोड़ा था। 300 किलो वजनी यह सैटेलाइट 550 किमी ऊपर 41 डिग्री के एंगल पर परिक्रमा करता है।
  • यह देश के हर हिस्से की इमेज ले सकता है। बादल और कोहरे के दौरान भी यह फोटो लेने में सक्षम है।
  • यह बाढ़, भूस्खलन, चक्रवात और आपदा प्रबंधन पर पूरी नजर रखता है।
  • ऐसे में यह सैटेलाइट जोधपुर की इंडस्ट्रियों की हर गतिविधि पर नजर रख सकता है।

ढाई माह में ये निर्णय…

  • 21 मई: स्पेशल टास्क फोर्स का गठन कर थाना बनाने के आदेश, जाे 24 घंटे निगरानी रखेगी।
  • 5 जुलाई: पर्यावरण जुर्माना सेल बनाने के आदेश दिए, जिसे जुर्माना वसूलने का अधिकार।
  • 23 जुलाई: पॉल्यूशन कंट्राेल एंड विजिलेंस स्क्वायड, जिसे जांच व सीज करने के अधिकार।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments