Tuesday, September 28, 2021
Homeहरियाणाहिसार नगर निगम में तेल का फर्जीवाड़ा

हिसार नगर निगम में तेल का फर्जीवाड़ा

हिसार नगर निगम में पिछले काफी समय से तेल का खेल जारी है। कचरा उठाने वाले 71 वाहनों का जीपीएस एक महीने से बंद था। जीपीएस लोकेशन बंद होने के कारण निगम के पास इस बात का कोई रिकॉर्ड जमा नहीं हुआ कि एक महीने में ये वाहन कितने किलोमीटर चले और इन पर तेल का कितना खर्चा हुआ।

निगम कमिश्नर अशोक कुमार गर्ग ने फर्जीवाड़े की आशंका को देखते हुए मुख्य सफाई निरीक्षक सुभाष सैनी को चार्जशीट कर दिया है। सफाई निरीक्षक राजेश कुमार को इस बारे में जवाब तलब भी किया गया है। जीपीएस बंद हैं, इस बात का खुलासा तब हुआ, जब एक अधिकारी ने वाहनों का ट्रैक रिकॉर्ड मिलान करने के लिए सीएसआई से जीपीएस का पासवर्ड पूछा।

इस पर सीएसआई सुभाष सैनी ने कोई सन्तुष्ट जवाब नहीं दिया और जीपीएस बन्द होने की बात कही। अधिकारी ने यह पूरा मामला निगम कमिश्नर अशोक कुमार गर्ग को भेज दिया। इसके बाद निगम कमिश्नर ने लापरवाही बरतने के मामले में मुख्य सफाई निरीक्षक को चार्जशीट कर दिया और सफाई निरीक्षक से जवाब तलब किया गया।

तेल का फर्जीवाड़ा रोकने के लिए लगवाए थे जीपीएस

सफाई में जुटी नगर निगम हिसार की गाड़ियां पूरे शहर से कचरा इकट्ठा करती हैं। उसके बाद इस कचरे को ढंढूर डंपिंग स्टेशन तक पहुंचाया जाता है। बीते दिनों निगम में तेल से जुड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया था। वाहनों में तेल तो पूरा भरवाया जा रहा था, लेकिन ये वाहन अपने तय रुट पर नहीं जा रहे थे।

तेल के इस फर्जीवाड़े को रोकने के लिए वाहनों में जीपीएस लगवाया गया था, ताकि इनका ट्रैक रिकॉर्ड मिलान किया जा सके। जीपीएस को चलाए रखने के लिए इसमें डली सिम को रिचार्ज करवाना पड़ता है, लेकिन 9 जुलाई के बाद से 71 वाहनों में लगे जीपीएस को रिचार्ज नहीं करवाया गया।

इस कारण से जीपीएस ने काम करना बंद कर दिया। जीपीएस बंद होने के बावजूद इन वाहनों में तेल भी डलता रहा और इनके बिल भी पास होते रहे। पूरा मामला कमिश्नर के संज्ञान में आने के बाद इस पर कार्रवाई हुई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments