पाकिस्तान की टीम जमैका में दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला मेजबान वेस्टइंडीज के खिलाफ खेल रही थी। इस मुकाबले को जीतने का मौका पाकिस्तान की टीम के पास भी था, क्योंकि 168 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए वेस्टइंडीज की टीम के 142 रन पर 8 विकेट गिर चुके थे। ऐसे में पाकिस्तान के पास सिर्फ दो विकेट लेकर मैच जीतने का मौका बना था। इसके लिए पाकिस्तान के क्रिकेटरों ने जमकर पसीना बहाया, लेकिन जीत हाथ नहीं लगी। हालांकि, इसी लक्ष्य को बचाते हुए टीम के विकेटकीपर मोहम्मद रिजवान ने एक शानदार कैच पकड़ा था, जिससे पाकिस्तान की टीम जीत के करीब पहुंची थी, लेकिन आखिर में हार मिली।

वेस्टइंडीज के खिलाफ पाकिस्तान की टीम को पहले टेस्ट मैच में हार का सामना करना पड़ा लेकिन टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान ने एक ऐसा कैच पकड़ा जिसकी तारीफ हर ओर हो रही है। उन्होंने लंबी दूरी कैच पकड़ने के लिए तय की।

मोहम्मद रिजवान ने विकेटकीपर की पोजिशन के दौड़ लगाकर फाइनल लेग बाउंड्री के पास कैच पकड़ा, जो अपने आप में अद्भुत कैच था, क्योंकि एक विकेटकीपर के लिए तेज दौड़ना आसान नहीं होता। खासकर जब गेंद पीछे की ओर ट्रेवल कर रही हो, लेकिन पाकिस्तान को मैच में वापस लाने के लिए उन्होंने तेज रफ्तार से अपने बाएं हाथ पर फाइन लेग की ओर कैच पकड़ा और टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचा, क्योंकि टीम को वहां से जीत के लिए एक विकेट चाहिए था। हालांकि, इस मुकाबले में जीत पाकिस्तान के नसीब में नहीं थी और टीम को एक विकेट से हार का सामना करना पड़ा

बात अगर कैच की करें तो वेस्टइंडीज के विकेटकीपर बल्लेबाज जोशुआ डिसिल्वा ने ऑफ साइड की ऊंची गेंद पर पुल शॉट खेलना चाहा था, लेकिन गेंद उनके बल्ले के ऊपरी सिरे को लगकर फाइन लेग की ओर जा रही थी। उस दिशा में कोई खिलाड़ी मौजूद नहीं था। ऐसे में विकेटकीपर मोहम्मद रिजवान पीछे दौड़ पड़े और बाउंड्री से कुछ ही कदम पहले उन्होंने कैच पकड़ लिया। यहां से टीम जीत की दहलीज पर थी, क्योंकि वेस्टइंडीज के पास सिर्फ एक विकेट था और उसको जीत के लिए 17 रन बनाने थे। हालांकि, केमार रोच ने जेयडेन सील्स के साथ कैरेबियाई टीम को जीत दिलाई। वहीं, इस कैच को महान कैचों में शामिल किया जा रहा है।