पटियाला : तीन युवकों को अरमानिया भेज ड्रग तस्करी में लगाया, एक का कत्ल

0
93

पटियाला. पटियाला के ट्रैवल एजेंट ने गांव रोहटी मोड़ा के युवक कर्ण को जापान भेजने का झांसा देकर अरमानिया भेज दिया। सौदा पांच लाख में तय हुआ था। वहां होटल में टायलेट साफ करने में लगा दिया। आपत्ति जताई तो कई दिन भूखा रखा फिर ड्रग्स और हथियारों की सप्लाई में लगा दिया। बंद पैकेट सप्लाई करने के लिए देते थे। कर्ण के साथ दो और पंजाबी युवक फगवाड़ा का रशमिंदर और गांव रोहटी मोड़ा का जगजीत भी थे। एक दिन रशमिंदर ने पैकेट खोलकर देखा तो ड्रग्स और हथियार निकले।

राज खुलने पर माफिया ने पैकेट खोलने वाले रशमिंदर का कत्ल कर दिया। जगजीत को दुबई भेज दिया और कर्ण को मलेशिया भेजा लेकिन कर्ण को प्री प्लानिंग के तहत दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरते ही उसके परिवार ने संभाल लिया। पुलिस ने कर्ण की शिकायत पर आनंदर नगर बी त्रिपड़ी के गुरकीरत सिंह और कर्ण को अरमानिया एयरपोर्ट से रिसीव करने वाली जगदीप कौर उर्फ दीप पर धोखाधड़ी और मानव तस्करी का केस दर्ज कर लिया। गुरकीरत मूलरूप से फगवाड़ा का है और इस समय अरमानिया में रह रहा है। दीप भी फगवाड़ी की है।
अरमानिया में दीप कौर ने सारे पैसे छीन लिए :
कर्णवीर नेे बताया, 12वीं पास करके वह विदेश जाना चाहता था। अरमानिया गए गांव के ही जगजीत ने उसे भादसों रोड पर ईजी एयर ट्रैवल जाने को कहा। एजेंट गुरकीरत ने जापान भेजने के लिए 5 लाख मांगे। कहा, 4 महीने अरमानिया में रहने के बाद पीआर मिल जाएगी। इसके बाद जापान भेज देंगे। पिता ने न चाहते हुए भी 5 लाख कर्ज लेकर एजेंट को दिए। अगस्त 2018 को अरमानिया पहुंचा। वहां उन्हें जगदीप कौर उर्फ दीप ने एयरपोर्ट से रिसीव किया। कर्ण के मुताबिक उसके पास 70 हजार रुपए थे जो दीप ने अपने पास रख लिए। इसमें से सिर्फ 5 हजार घूमने के लिए दिए। बाकी पैसे मांगे तो बोली, जो करना है कर लो।
शक पर रशमिंदर ने ड्रग्स का पैकेट खोला तो उसे मार दिया :
कर्ण के मुताबिक इसके बाद मुझे 10 दिनों तक भूखा रखा गया। इसके बाद एक होटल में टॉयलेट साफ करने में लगा दिया। कुछ दिन काम करने के बाद विरोध किया तो डिब्बा बंद पैकेट की डिलीवरी में लगा दिया। इस दौरान मुझे मेरे गांव का जगजीत भी मिल गया। वो यही पैकेट डिलीवर करता था। हमारे साथ फगवाड़ा का लड़का रमशिंदर भी था। जब हमें पैकेट डिलीवर करने के बहुत पैसे मिलने लगे तो शक हुआ। एक दिन रशमिंदर ने पैकेट खोलकर देखा तो अंदर ड्रग्स और हथियार थे। तीनों ने दीप से आपत्ति जताई तो उसने एजेंट गुरकीरत को फोन कर दिया। जिसने हमें गालियां दीं। पैकेट खोलने की सजा के तौर पर रशमिंदर का कत्ल कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here