Monday, September 27, 2021
Homeदिल्लीप्रदेश अध्यक्ष के बाद कांग्रेस में अब पीसी चाको का इस्तीफा, BJP...

प्रदेश अध्यक्ष के बाद कांग्रेस में अब पीसी चाको का इस्तीफा, BJP का खेमा अबतक शांत

  • नतीजों के बाद कांग्रेस में इस्तीफों की होड़
  • सुभाष चोपड़ा के बाद पीसी चाको का इस्तीफा
  • बीजेपी का खेमा अबतक शांत

दिल्ली विधानसभा चुनाव में चली आम आदमी पार्टी की आंधी का असर अब दिखने लगा है. कांग्रेस लगातार दूसरी बार दिल्ली में अपना खाता भी नहीं खोल पाई जिसके बाद पार्टी में इस्तीफों की लाइन लग गई है. दिल्ली कांग्रेस के चुनाव प्रभारी पीसी चाको ने अपने पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है. उनसे पहले सुभाष चोपड़ा भी अपना इस्तीफा दे चुके हैं. एक तरफ कांग्रेस में इस्तीफे आ रह हैं वहीं भाजपा का खेमा अभी शांत दिख रहा है.

सुभाष चोपड़ा भी दे चुके हैं इस्तीफा

दिल्ली में लगातार दूसरी बार कांग्रेस पार्टी को इतनी बुरी हार का सामना करना पड़ रहा है. इस्तीफों के तुरंत बाद सुभाष चोपड़ा ने प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया. अब पीसी चाको का इस्तीफा आ गया है. बता दें कि कांग्रेस को सिर्फ 4 फीसदी वोट ही दिल्ली में मिले हैं, जो कि 4 लाख से भी कम हैं.

भाजपा में अब भी छाई है खामोशी

कांग्रेस भले ही मंथन के नाम पर इस्तीफे दे रही हो लेकिन भारतीय जनता पार्टी की ओर से अभी कोई रिस्पॉन्स नहीं आया है. भाजपा लगातार बड़ी जीत का दावा कर रही थी, लेकिन AAP की सुनामी के आगे उसके सभी दावों की हवा निकल गई. प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी खुद भी लगातार 48 सीटों का दावा कर रहे थे, लेकिन सिर्फ 8 सीटें ही आईं.

बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बुधवार को सभी दिल्ली भाजपा नेताओं की बैठक बुलाई है, जिसमें हार पर मंथन हो सकता है. हालांकि, अभी तक मनोज तिवारी के इस्तीफे की कोई बात सामने नहीं आई है. बुधवार को बीजेपी के आठों विधायक मनोज तिवारी से मुलाकात करेंगे.

शीला दीक्षित को लेकर उठाए थे सवाल

बुधवार को ही पीसी चाको ने नतीजों को लेकर बयान दिया था और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे. पीसी चाको ने कहा था कि दिल्ली में कांग्रेस का पतन 2013 में शीला दीक्षित के कार्यकाल में ही शुरू हो गया था. तब जो कांग्रेस का वोटर था, वो आम आदमी पार्टी के खाते में चला गया. और तब से लेकर अबतक वो वोटर AAP के साथ ही है.

बता दें कि शीला दीक्षित और पीसी चाको को लेकर पहले भी अनबन की खबरें सामने आती थीं. पीसी चाको कई बार दिल्ली में AAP के साथ गठबंधन की बात कर चुके थे और डील भी लगभग फाइनल होने वाली थी. लेकिन जब शीला दीक्षित को दोबारा प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था तो उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया था.

चाको के बयान पर देवड़ा ने उठाए सवाल

पीसी चाको के बयान के बाद पार्टी में ही सवाल खड़े होने लगे थे. कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने पीसी चाको को जवाब देते हुए कहा कि शीला दीक्षित एक उल्लेखनीय राजनीतिज्ञ और प्रशासक थीं. मुख्यमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान दिल्ली की तस्वीर बदली और कांग्रेस पहले से कहीं ज्यादा मजबूत हो गई. उनकी मौत के बाद उनको दोषी ठहराना दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने अपना जीवन कांग्रेस और दिल्ली के लोगों के लिए समर्पित कर दिया.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments