Friday, September 17, 2021
Homeचंडीगढ़पब्लिक बाइक शेयरिंग बेसिस पर साइकिल ले सकेंगे लोग

पब्लिक बाइक शेयरिंग बेसिस पर साइकिल ले सकेंगे लोग

155 डॉकिंग स्टेशंस में 25 25 डॉकिंग स्टेशन वे भी शामिल हैं जिनपर स्मार्ट सिटी ने साइकिल 4 चेंज कंपीटिशन में हिस्सा लेते हुए 225 साइकिलें चलाई थीं। सभी डॉकिंग स्टेशंस पर बिजली कनेक्शन लिए गए हैं, जहां ई-साइकिल चार्ज होगी। साइकिलों में 40% नॉर्मल बाइक्स जबकि 60% ई- बाइक्स शामिल हैं।

ये प्रोजेक्ट 4 फेज का है जिसमें 617 डॉकिंग स्टेशन बनाए जाने हैं। पहला फेज गुरुवार को शुरू हो रहा है जिसके तहत 1250 साइकिल चलेंगी। वहीं दूसरा फेज नवंबर से शुरू होगा जिसमें 155 डॉकिंग स्टेशन पर 1250 साइकिलें चलेंगी।

चंडीगढ़ में साइकिल ट्रैक 232 किमी है। 20 करोड़ रु. से वी1, 2, 3 रोड किनारे ये ट्रैक बनाया गया है। पूर्व मार्ग पर साइकिल ट्रैक रोड किनारे येलो लाइन लगाकर बनाया जाएगा। दक्षिण मार्ग पर धनास में भी येलो लाइन लगाई गई है। वहां पर मार्बल मार्केट के आगे यलो लाइन पर कब्जे हैं। इसलिए अभी यहां डॉकिंग स्टेशन नहीं है। 08 करोड़ की लागत से ट्रैक्स पर स्ट्रीट लाइट लगाई गई है।

बता दें कि जब से कोविड की शुरुआत हुई है,लोग अपनी सेहत के लिए और सजग हो गए हैं। पहले के मुकाबले अब ज्यादा लोग सैर और साइक्लिंग करते नजर आते हैं। पूरे शहर में साइकिलें भी ज्यादा नजर आती हैं।

पेमेंट ऐसे होगी

साइकिल लॉक होते ही एप के वॉलेट फीचर से आपकी पेमेंट कट जाएगी। ये पेमेंट पेटीएम या गूगल एप से पेमेंट होगी

इतने हैं चार्ज

ई-साइकिल के आधे घंटे के 10 रुपए

पैडल वाले साइकिल के 5 रुपए

साइकिल चलाने के लिए करना होगा ये

गूगल प्ले स्टोर से स्मार्ट बाइक एप डाउनलोड करनी होगी। या डॉकिंग स्टेशन पर लगे एडवर्टाइजमेंट बोर्ड पर कंपनी की एप का क्यूआर कोड बना हुआ है। उसे मोबाइल से स्कैन करने पर स्मार्ट बाइक एप खुलेगी।

इस एप में अपना आधार नंबर या ऑफिस का आइडेंटिटी कार्ड नंबर लिखना होगा।

इस एप में स्कैनिंग का फीचर है। किसी भी डॉकिंग स्टेशन पर खड़े साइकिल के पीछे लिखे नंबर को स्कैन करते ही उसका लॉक खुल जाएगा।

जिस डॉकिंग स्टेशन पर उतरना है वहां दोबारा साइकिल का नंबर स्कैन करने पर साइकिल लॉक हो जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments