Saturday, September 18, 2021
Homeउत्तर-प्रदेशनागरिकता कानून : बिजनौर हिंसा में मारे गए दोनों युवकों के परिजनों...

नागरिकता कानून : बिजनौर हिंसा में मारे गए दोनों युवकों के परिजनों से मिलीं प्रियंका गांधी, कहा- मामले की जांच हो, किसी की भारतीयता का सबूत मांगना गलत

बिजनौर. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में नागरिकता कानून के विरोध में बिजनौन में हुए प्रदर्शन के दौरान मारे गए प्रदर्शनकारियों के परिवारों से मुलाकात की है। प्रियंका रविवार को दोपहर बाद अचानक ब‍िजनौर के नहटौर पहुंच गईं। प्र‍ियंका ने अनस और सुलेमान के घर पहुंचकर उनके परिजनों से बातचीत कर सांत्वना दी है। दोनों युवक शुक्रवार दोपहर बाद अचानक भड़की हिंसा के दौरान गोली का शिकार हुए थे।

हिंसा मामले की मैजिस्ट्रेटियल जांच हो

प्रियंका गांधी ने कहा- मृतक युवकों के परिजन ने अपना दुख जाहिर किया है। बताया कि, जब वे एफआईआर दर्ज कराना चाहते थे तो पुलिस ने उन पर ही एफआईआर दर्ज करने की धमकी दी है। बिजनौर में हिंसा मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए। यहां बहुत अजीब परिस्थित है।

किसी की भारतीयता का सबूत मांगना सही नहीं

प्रियंका ने कहा- एक किसान जिसके पास जमीन नहीं है, उससे सबूत मांगेंगे कि आप अपनी भारतीयता का सबूत दीजिए। ये कानून इस देश को नहीं चाहिए। किसी से देश में रहने का प्रमाण मांगना सही नहीं है। कौन सा पहचान पत्र मांगेगे। कोई साल ले लिया, 1971 ले लिया या उससे पहले का ले लिया। कहेंगे कि, कागज दिखाइए कि आप हिंदुस्तानी है। भारतीयता का जो सबूत है, उसे मांगने का अधिकार नहीं है।

प्रियंका ने कहा- इस कानून से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीब परिवार होगा। मोदी सरकार इस कानून को लाकर ठीक नहीं कर रही है। विद्यार्थी क्या कह रहे हैं? किसान क्या कह रहा है? गरीब परिवार क्या कह रहे हैं, कम से कम उनकी तो सुनिए।

2 प्रदर्शनकारियों की हुई थी मौत, 8 पुलिसकर्मी हुए थे घायल
बिजनौर में शुक्रवार को नहटौर में नमाज के बाद भीड़ ने नागरिकता कानून के विरोध में जमकर नारेबाजी की। पुलिस ने धारा 144 का हवाला देकर रोकने का प्रयास किया तो उग्र भीड़ ने अचानक पथराव शुरू कर दिया। कई वाहनों में तोड़फोड़ की गई। पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोड़कर हालात पर काबू पाया। इस दौरान फायरिंग हुई, जिसमें 4 युवक घायल हुए। इनमें अनस व सुलेमान की इलाज के दौरान अस्पताल में हो गई। इस प्रदर्शन में 8 पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे।

अब तक 131 आरोपी गिरफ्तार
बिजनौर में पुलिस ने शहर के अलावा नहटौर, नजीबाबाद सहित जिले के अन्य हिस्सों में हुए प्रदर्शन के मामले में 24 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। 4027 को आरोपी बनाया गया है। जिनमें 177 नामजद और 3850 अज्ञात हैं। 131 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। बिजनौर में चेयरपर्सन के पति शमशाद अंसारी, सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन, जामा मस्जिद के इमाम वरीस अहमद के खिलाफ भी रिपोर्ट हुई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments