Saturday, September 25, 2021
Homeदुनियापंजाब के CM कृषि कानूनों के मुद्दे पर PM से चर्चा कर...

पंजाब के CM कृषि कानूनों के मुद्दे पर PM से चर्चा कर सकते हैं

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर सकते हैं। वैसे तो ये माना जा रहा है कि कैप्टन कृषि कानूनों और स्वतंत्रता दिवस से पहले पंजाब में सुरक्षा स्थिति को लेकर मोदी से चर्चा करेंगे, लेकिन जिस तरह नवजोत सिद्धू से उनका विवाद चल रहा है उसे देखते हुए कई अटकलें लगाई जा रही हैं।

कैप्टन ने मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने सिद्धू की बयानबाजी को लेकर सोनिया से शिकायत की थी। न्यूज एजेंसी ANI के सूत्रों के मुताबिक कैप्टन ने कहा कि सिद्धू जिस तरह पंजाब सरकार की निंदा कर रहे हैं, वह अच्छा नहीं है और इससे जनता में छवि खराब होती है। कैप्टन की शिकायत पर सोनिया ने पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत से इस मामले को देखने के लिए कहा है।

बता दें सिद्धू के पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनने के बाद कैप्टन की सोनिया से ये पहली मुलाकात थी। इसके बाद हरीश रावत ने बताया कि सोनिया ने कैप्टन और सिद्धू को मतभेदों की बजाय साथ मिलकर काम करने के निर्देश दिए हैं।

सिद्धू के पंजाब सरकार पर हमले जारी

नवजोत सिद्धू के पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद माना जा रहा था कि पंजाब में कांग्रेस की कलह शायद थम जाएगी, लेकिन कैप्टन पर सिद्धू के हमले जारी हैं। सिद्धू ने सोमवार को सोशल मीडिया पर पंजाब में ड्रग्स रैकेट का मुद्दा उठाया। सिद्धू ने कहा था कि ड्रग ट्रैफिकिंग में शामिल बिक्रमजीत सिंह मजीठिया और दूसरे लोगों के मामले में स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने 2018 में हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट सौंप दी थी। लेकिन उसके बाद ढाई साल में पंजाब पुलिस ने क्या जांच की? सरकार ने क्या कदम उठाए? ये जनता को बताना चाहिए।

कैप्टन ने गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की। कैप्टन ने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर पंजाब ही नहीं बल्कि दूसरे राज्यों के किसानों में भी भारी नाराजगी है। अमरिंदर ने चिंता जताते हुए कहा कि सीमा पार से दुश्मन सरकार के खिलाफ असंतोष का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए किसानों के मुद्दे को स्थायी और जल्द समाधान होना चाहिए।

कैप्टन ने बताया कि पंजाब के 5 किसान नेताओं की जान को खतरा है। ये नेता पंजाब और हरियाणा पुलिस की सिक्योरिटी लेने से इनकार कर चुके हैं। इसलिए केंद्र इन नेताओं की सुरक्षा का इंतजाम करे। कैप्टन ने बताया कि पंजाब में स्थित RSS के ऑफिस, RSS, BJP और शिवसेना के नेता, राज्य के मंदिर, बसों और ट्रेनों को आतंकियों से खतरा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments