Sunday, September 26, 2021
Homeपंजाबपंजाब : पूर्व कस्टम हवलदार के बेटे की मदद से आई हेरोइन,...

पंजाब : पूर्व कस्टम हवलदार के बेटे की मदद से आई हेरोइन, घाटी में खपाई जानी थी

अमृतसर . अटारी बाॅर्डर पर इंटीग्रेटेड चैक पोस्ट (आईसीपी) में नमक की बोरियों से बरामद हुई 532 किलो हेरोइन की खेप कश्मीर के हंदवाड़ा शहर में खपाई जानी थी। नमक के साथ हेरोइन की यह खेप मंगवाने वाला मास्टरमाइंड हंदवाड़ा का रहने वाला जाकिर अहमद है। उसने यह कन्साइनमेंट अमृतसर की फर्म कनिष्क इंटरप्राईजेज के गुरपिंदर सिंह के मार्फत पाक से मंगवाई थी।

जाकिर ने दिसंबर 2018 में भी गुरपिंदर से पाक से कन्साइनमेंट मंगवाई थी। शनिवार को हेरोइन की खेप 640 किलो बताई गई थी। गुरपिंदर सिंह को दिसंबर-2018 में ही इंपोर्ट-एक्सपोर्ट का लाइसेंस मिला था और बतौर व्यापारी उसकी यह दूसरी ही कन्साइनमेंट थी। यह जानकारियां रविवार को कस्टम कमिश्नर दीपक गुप्ता ने दीं।

गुप्ता ने बताया जेएंडके पुलिस की मदद से जाकिर को गिरफ्तार किया जा चुका है और गुरपिंदर सिंह से पूछताछ चल रही है। गुरपिंदर के कारिंदे व एक अन्य को शनिवार ही अरेस्ट कर लिया गया था। गुप्ता ने बताया आईसीपी पर कस्टम की सर्च शनिवार रात डेढ़ बजे तक चली, जिसमें नमक की 600 बोरियों में से 532 किलो हेरोइन व 52 किलो नशीला पाउडर बरामद किया गया। इंटरनेशनल मार्केट में इसकी कीमत लगभग 2700 करोड़ रुपए है।

2016 में भी सामने आया था पाक तस्करों का बाया अमृतसर श्रीनगर कनेक्शन: पाक तस्करों का जेएंडके में वाया अमृतसर-जालंधर कनेक्शन काफी 2016 व 2017 से है। उस समय स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सैल ने तस्करों से पूछताछ के बाद अमृतसर-जालंधर के 3 व्यापारियों को पकड़ा था। यह कपड़ा व्यापारी पाक तस्करों व श्रीनगर के व्यापारियों के बीच कड़ी का काम करते थे।

ऐसे पकड़ा नमक की बोरियां अलग दिखने पर हुआ शक

पिता ने ही 12 साल पहले बेटे को काम पर लगवाया था : गुरपिंदर को हुसैनपुरा के रहने वाले पूर्व कस्टम हवलदार जगजीत सिंह ने आईसीपी पर एक क्लीयरेंस एजेंट के पास 12 साल पहले काम पर लगवाया था। वहीं से उसे इंपोर्ट-एक्सपोर्ट का कारोबार करने का चस्का लगा। उस पर 2007, 2008, 2009, 2010 में वाहन चोरी के कई पर्चे दर्ज हैं।

ये 2 कारण, जिससे शिकंजे में आई हेरोइन 

200% टैक्स के बावजूद नमक मंगवाने पर शक… भारत के पाक उत्पादों पर 200% ड्यूटी लगाने के बाद बॉर्डर पार से सीमेंट व जिप्सम का व्यापार बंद हो गया। भारी-भरकम ड्यूटी के बावजूद गुरपिंदर ने जब नमक की कंसाइनमेंट मंगवाई तो कस्टम अफसरों को उस पर शक हो गया।

बोरियों के अलग रंग ने किया शक पक्का… पाकिस्तान से नमक से भरा ट्रक 26 जून को आईसीपी पर पहुंचा और ड्राइवर उसी दिन अनलोडिंग कर वापस चला गया। ट्रक ड्राइवर ने नमक की बोरियां गोदाम की जगह बाहर खुले में ही उतार दी थीं। इन बोरियों में से कुछ का रंग अलग नजर आने पर शक पक्का हो गया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments