Thursday, September 23, 2021
Homeराशिफलसंतान प्राप्ति के लिए सर्वोत्म है पुत्रदा एकादशी का व्रत, जानिए व्रत...

संतान प्राप्ति के लिए सर्वोत्म है पुत्रदा एकादशी का व्रत, जानिए व्रत की तिथि और मुहूर्त

सावन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। पुत्रदा एकादशी का व्रत संतान प्राप्ति या संतान के जीवन में आने वाली समस्याओं को दूर करने के उद्देश्य से रखा जाता है। एकादशी का व्रत भगवान विष्णु को समर्पित होता है। पुत्रदा एकादशी चतुर्मास में पड़ती है। चतुर्मास में भगवान विष्णु योग निद्रा में विश्राम करते हैं। चतुर्मास की एकादशी का विशेष महत्व होता है। चतुर्मास में एकादशी का व्रत रखने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं पुत्रदा एकादशी व्रत की तिथि, मुहूर्त और पूजन विधि….

सावन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। पुत्रदा एकादशी का व्रत संतान प्राप्ति या उनकी समस्याओं को दूर करने के उद्देश्य से रखा जाता है। इस साल ये व्रत 18 अगस्तदिन बुधवार को पड़ रहा है।

तिथि, मुहूर्त और पारण का समय

पंचांग के अनुसार पुत्रदा एकादशी का व्रत सावन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन रखा जाता है। इस साल ये तिथि 18 अगस्त,दिन बुधवार को पड़ रही है। एकादशी की तिथि 18 अगस्त को सुबह 3.20 बजे से प्रारंभ हो रही है जो कि 19 अगस्त को सुबह 1.05 बजे तक रहेगी। पुत्रदा एकादशी का व्रत 18 अगस्त को रखा जाएगा इसका पारण द्वादशी की तिथि में 19 अगस्त को होगा।

व्रत और पूजा की विधि

पुत्रदा एकादशी का व्रत संतान की दीर्घ आयु और उनके जीवन में आने वाली सभी समस्याओं को दूर करने के लिए रखा जाता है। जिन दंपत्ती को संतान की प्राप्ति नहीं हो रही हो उनकी मनोंकामना भी इस व्रत को रखने से पूरी होती है। पुत्रदा एकादशी के दिन सुबह स्नान आदि से निवृत्त हो कर भगवान विष्णु का स्मरण करना चाहिए। इस दिन पीले कपड़े पहनाना शुभ माना जाता है। भगवान विष्णु को आसन पर स्थापित कर धूप, दीप,पीले फूल तथा हल्दी अर्पित करें। विष्णु जी का आचमन हल्दी मिले जल से करना चाहिए। इसके बाद एकादशी की व्रत कथा का पाठ कर, आरती से भगवान की स्तुति करें। दिन भर के फलाहार के व्रत का संकल्प लें तथा व्रत का पारण अगले दिन स्नान और यथा शक्ति दान दे कर करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments