Sunday, September 26, 2021
Homeछत्तीसगढ़GPM में रेलवे अंडरब्रिज की खुली पोल, कई जगह दरारों से टिप-टिप...

GPM में रेलवे अंडरब्रिज की खुली पोल, कई जगह दरारों से टिप-टिप गिर रहा पानी

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही (GPM) जिले में पिछले 3 दिन से लगातार बारिश जारी है। जिससे गौरेला में 4 महीने पहले बने रेलवे अंडरब्रिज में 5 फीट तक पानी भर गया है। पानी भर जाने के कारण आने-जाने वाले लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं इसी ब्रिज पर बुधवार सुबह एक बड़ा हादसा भी होते-होते बच गया है, जब एक कार सवार ने अंडरब्रिज के अंदर अपने कार घुसेड़ दी। जिसे आसपास के लोगों ने समय रहते बाहर निकाल लिया है। हैरान करने वाली बात ये है कि कुछ समय पहले बने इस अंडरब्रिज में जगह-जगह दरारें भी पड़े गईं हैं और ऊपर से पानी टिप-टिप कर गिर रहा है। इस तरह से इस अंडरब्रिज निर्माण में रेलवे की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है।

ब्रिज के ऊपर और किनारे के हिस्से में इस तरह से दरारें पड़ी हुई हैं।
ब्रिज के ऊपर और किनारे के हिस्से में इस तरह से दरारें पड़ी हुई हैं।

6 फीट तक भर गया था पानी

दरअसल, रेलवे ने गौरेला से अमरकंटक जाने वाले मार्ग पर अंडरब्रिज का निर्माण किया है। 4 महीने पहले बने इसे अंडरब्रिज के निर्माण की पोल पहली ही बारिश में खुलनी शुरू हो गई थी। जब यहां जुलाई में हुई बारिश से 6 फीट तक बारिश अंड्ररब्रिज के अंदर भर गया था। इसके बावजूद रेलवे ने ध्यान नहीं दिया और जब फिर अब लगातार बारिश हो रही है तो एक बार फिर इस अंडरब्रिज में यही स्थिति है। जिससे लोगों को आने जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

बुधवार सुबह इस तरह से एक कार अंदर डूब गई थी।
बुधवार सुबह इस तरह से एक कार अंदर डूब गई थी।

ऊपर से गुजरती हैं ट्रेन

रेलवे ने इस अंडरब्रिज का निर्माण एल शेप में किया है। यानि जैसे ही आप अंडरब्रिज के नीच जाएंगे तो आपको ढलान मिलेगा। वहीं आगे बढ़ने पर आपके ऊपर की ओर गाड़ी चढ़ानी होती है। अंदर की ओर जाने के बाद आपके ऊपर जाने के लिए राइट टर्न करना पड़ता है। ब्रिज के ऊपर से दिनभर पैसेंजर ट्रेन और मालगाड़ियां गुजरती हैं। लेकिन ब्रिज के अंदर दरारें पड़ने से बड़ा हादसा होने का भी खतरा बना हुआ है।

आम लोगों के लिए अब भी चालू है अंडरब्रिज

फिलहाल रेलवे, पंप के सहारे ब्रिज के अंदर से पानी निकालने का काम कर रही है और पुल को आम लोगों के लिए बंद भी नहीं किया गया है। इस मामले में भास्कर ने रेलवे के अधिकारियों से बात करने की भी कोशिश की। लेकिन अधिकारियों की तरफ से अब तक कोई जवाब नहीं दिया गया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments