Tuesday, September 28, 2021
Homeव्यापारसस्ते लोन की उम्मीदों को RBI ने दिया झटका, रेपो रेट में...

सस्ते लोन की उम्मीदों को RBI ने दिया झटका, रेपो रेट में नहीं की कटौती

  • रेपो रेट में कटौती की उम्‍मीदों को आरबीआई ने दिया झटका
  • आरबीआई ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 5 फीसदी किया

सस्‍ते लोन की उम्‍मीदों को झटका देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कटौती नहीं की है. आरबीआई की मौद्रिक नीति की समीक्षा बैठक में यह फैसला लिया गया है. आरबीआई के इस फैसले के बाद रेपो रेट 5.15 फीसदी पर बरकरार है.

वहीं आरबीआई ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 6.1 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी कर दिया है. आरबीआई का यह अनुमान आर्थिक मोर्चे पर एक झटका है. बता दें कि जीडीपी वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में 4.5 फीसदी रही, जो छह साल का न्यूनतम स्तर है. चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में यह 5 फीसदी थी. वहीं महंगाई दर का अनुमान 3.5 फीसदी से बढ़ाकर 3.7 फीसदी कर दिया है. इसके अलावा आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट को 4.90 फीसदी और बैंक रेट को 5.40 फीसदी पर रखा है.

बहरहाल, आरबीआई की मौद्रिक नीति की बैठक के बाद शेयर बाजार में बड़ी गिरावट देखने को मिली. दोपहर 11.30 बजे सेंसेक्‍स 113.43 अंकों की तेजी के साथ 40,963.72 पर और निफ्टी लगभग इसी समय 26.05 अंकों की तेजी के साथ 12,069.25 पर कारोबार कर रहे थे. लेकिन आरबीआई के ऐलान के बाद सेंसेक्‍स 40 अंक लुढ़क कर 40 हजार 800 के स्‍तर पर आ गया.

इससे पहले कितनी बार हुई थी कटौती?

इस साल अबतक पांच बार रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में कुल 1.35 की कटौती की थी. इसका मतलब ये हुआ कि इस साल अक्‍टूबर तक हर दो महीने पर होने वाली मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रेपो रेट की दर घटाई गई है. इससे पहले रेपो रेट में आखिरी कटौती 0.25 फीसदी की अक्‍टूबर 2019 में हुई थी. इस कटौती के बाद रेपो रेट 5.15 फीसदी पर पहुंच गया. हालांकि उम्‍मीद के मुताबिक बैंकों ने ग्राहकों तक इसका फायदा नहीं पहुंचाया है. आस्ट्रेलिया की ब्रोकरेज कंपनी मक्वैरी की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान बैंकों ने सिर्फ 0.29 फीसदी कटौती ही आगे ग्राहकों तक पहुंचाई है.

क्‍या होता है रेपो रेट?

केंद्रीय बैंक आरबीआई रेपो रेट के आधार पर ही बैंकों को कर्ज देता है. रेपो रेट जितना कम होता है, बैंकों के लिए उतना ही फायदेमंद होता है. रेपो रेट कटौती होने के बाद बैंकों पर ब्‍याज दर कम करने का दबाव बनता है. आरबीआई हर दो महीने पर होने वाली मौद्रिक नीति की बैठक में रेपो रेट की समीक्षा करता है.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments