Saturday, September 18, 2021
Homeहेल्थफाइबर, आयरन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर किनुआ खाकर करें वजन कम...

फाइबर, आयरन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर किनुआ खाकर करें वजन कम और पेट संबंधी समस्याएं दूर

किनुआ क्या है…

चिकित्सा जगह में किनुआ को चिनोपोडियम किनुआ के नाम से जाना जाता है। यह एक फूलदार पौधा है, जो दक्षिण अमेरिका के एंडीज पर्वत पर होता है। इस पौधे में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। यह तीन रंगों में मौजूद हैः

किनुआ बोल सुबह उठते ही खाने को मिल जाए तो आपका पूरा दिन एनर्जेटिक और चुस्त-दुरुस्त रहता है। ऊपर से जब पता चले कि किनुआ का बोल जीरा ऑयल में पका है तो इससे आपकी सेहत भी बरकरार रहती है। तो आज हम किनुआ के बारे में जानेंगे।

सफेद किनुआः सफेद रंग किनुआ आसानी से मार्केट में उपलब्ध है। इसे आइवरी किनुआ के नाम से भी जाना जाता है।

लाल किनुआः इसे पकाने के बाद भी इसका रंग लाल ही रहता है।

काला किनुआः इसके बीज काले और हल्के भूरे रंग के होते हैं। इसका स्वाद हल्का मीठा होता है और पकाने के बाद रंग काला रहता है।

न्यूट्रिशन टिप्स

जिंदल नेचरक्योर इंस्टिट्यूट, बेंगलुरु की डाइटीशियन सुषमा पी. बताती हैं कि किनुआ सुपरफूड है। प्रोटीन से पैक किनुआ ग्लूटन-फ्री होता है। इसकी पौष्टिकता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह उन कुछ प्लांट फूड में से एक है, जिसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन बी, पोटैशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, विटामिन ई मौजूद है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स उच्च मात्रा में पाए जाते हैं। इसे स्मूद से लेकर सैलेड तक में यूज किया जाता है।

जरूरी टिप्स

– किनुआ में उचित मात्रा में आयरन होता है। आयरन हमारे लाल रक्त कोशिकाओं के लिए जरूरी है, जो हीमोग्लोबिन के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है। आयरन, ऑक्सीजन को कोशिकाओं तक पहुंचाता है। यह हमारी मांसपेशियों और मस्तिष्क को ऑक्सीजन की आपूर्ति करता है। अगर एनीमिया की समस्या है तो किनुआ का सेवन जरूर करें।

– किनुआ आपके पाचन तंत्र के लिए भी बेहद लाभकारी है। इसमें अन्य अनाजों की तुलना में लगभग दोगुना फाइबर होता है, जिसके कारण यह कब्ज और अन्य पेट संबंधी समस्याओं को दूर करता है। साथ ही फाइबर दिल की बीमारियों और स्ट्रोक और उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करता है।

– वजन कम करना चाहते हैं तो किनुआ को डाइट में शामिल करें। इसमें फाइबर की अधिकता आपको लंबे समय तक पेट भरे होने का अहसास कराता है, जिससे ओवरइटिंग से बचा जा सकता है

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments