Monday, September 27, 2021
Homeव्यापारदुबई : सऊदी अरामको ने आईपीओ से 1.82 लाख करोड़ रुपए जुटाए,...

दुबई : सऊदी अरामको ने आईपीओ से 1.82 लाख करोड़ रुपए जुटाए, अलीबाबा को पीछे छोड़ दुनिया का सबसे बड़ा पब्लिक इश्यू बना

दुबई. दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको ने आईपीओ से 2,560 करोड़ डॉलर (1.82 लाख करोड़ रुपए) जुटाए हैं। यह दुनिया का सबसे बड़ा पब्लिक इश्यू है। पिछला रिकॉर्ड चीन की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के नाम था। उसने 2014 में अमेरिकी शेयर बाजार के आईपीओ के जरिए 2,500 करोड़ डॉलर (1.57 लाख करोड़ रुपए) जुटाए थे। अरामको सऊदी अरब के शेयर बाजार में लिस्टिंग के बाद एपल को पीछे छोड़ दुनिया की सबसे ज्यादा वैल्यूएशन वाली लिस्टेड कंपनी भी बन जाएगी। अरामको ने आईपीओ का प्राइस 8.53 डॉलर तय किया। इस हिसाब से उसके 20 हजार करोड़ शेयरों की वैल्यू 1.70 लाख करोड़ डॉलर (121 लाख करोड़ रुपए) होती है। एपल का मार्केट कैप 1.18 लाख करोड़ डॉलर (84 लाख करोड़ रुपए) है।

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने वैल्यूएशन 142 लाख करोड़ रुपए आंका था

दुनिया के 10 बड़े आईपीओ

कंपनी/सालआईपीओ की वैल्यू (डॉलर)
सऊदी अरामको, 20192560 करोड़
अलीबाबा, 20142500 करोड़
एग्रीकल्चर बैंक ऑफ चाइना, 20102210 करोड़
इंडस्ट्रियल एंड कमर्शियल बैंक ऑफ चाइना, 20062190 करोड़
सॉफ्ट बैंक कॉर्प, 20182130 करोड़
एआईए, 20102050 करोड़
वीजा, 20081970 करोड़
एनटीटी, डोकोमो, 19981840 करोड़
जनरल मोटर्स 20101810 करोड़
ईएनईएल, 19991740 करोड़

 

अरामको सऊदी अरब की सरकारी कंपनी है। पिछले महीने 1.5% शेयर बिक्री के लिए आईपीओ लाई थी। पहली बार 2016 में आईपीओ की योजना के बारे में बताया था, लेकिन वैल्यूएशन बढ़ाने की कोशिश में टलता रहा। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने अरामको का वैल्यूएशन 2 लाख करोड़ डॉलर (142 लाख करोड़ रुपए) आंका था।

अरामको मुनाफे में भी दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है। पिछले साल 11,100 करोड़ डॉलर का प्रॉफिट हुआ था। यह एपल के सालाना मुनाफे से 50% ज्यादा है। 30 सितंबर को खत्म वित्त वर्ष में एपल को कुल 5,525 करोड़ डॉलर का फायदा हुआ। एपल का वित्त वर्ष सितंबर में खत्म होता है। शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनियों में एपल दुनिया की सबसे ज्यादा मुनाफे वाली कंपनी है। अरामको को इस साल के पहले 9 महीनों (जनवरी-सितंबर) में ही 6,800 करोड़ डॉलर का प्रॉफिट हो चुका।

सऊदी अरब अर्थव्यवस्था की तेल पर निर्भरता कम करना चाहता है

दुनिया के कुल क्रूड उत्पादन का 10% अरामको करती है। 2016 की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी के पास 26,080 करोड़ बैरल का तेल भंडार था। अमेरिकी तेल कंपनी एक्सॉन मोबिल के पास सिर्फ 2000 करोड़ बैरल का ऑयल रिजर्व था। एक्सॉन मोबिल दुनिया की सबसे बड़ी लिस्टेड तेल कंपनी है। 2018 में इसका मुनाफा 2,084 करोड़ डॉलर रहा था। तेल की कीमतों में गिरावट, जलवायु परिवर्तन और अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक जोखिमों जैसी वजहों को देखते हुए सऊदी अरब अपनी अर्थव्यवस्था की तेल पर निर्भरता कम करना चाहता है, इसलिए तेल कंपनी में शेयर बेचकर दूसरे क्षेत्रों में पूंजी लगाने की योजना है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments