गौरतलब है कि जब से यूपीए का गठन हुआ है तब से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ही इसकी अध्‍यक्ष हैं। लेकिन अपनी खराब सेहत, कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की मांग और राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल के निधन के पश्‍चात सोनिया गांधी अब राजनीतिक जिम्मेदारियों से मुक्‍त होना चाहती हैं।

एनसीपी प्रमुख ने किया अटकलों को खारिज

वीरवार को भले ही राजनीतिक गलियारे में ये चर्चा जोरों पर रही हो लेकिन एनसीपी ने शरद पवार ने इसे सिरे से खारिज करते हुए कहा कि इस खबर में कोई तथ्‍य नहीं है। हालांकि इन दिनों इसे लेकर चर्चा का माहौल गर्म है सुनने में आया है कि कांग्रेस का अध्यक्ष पद राहुल गांधी और यूपीए का अध्‍यक्ष पद एनसीपी चीफ शरद पवार संभाल सकते हैं। इसे लेकर बड़ी वजह यह है कि यूपीए में शामिल विपक्षी पार्टियों के तमाम नेताओं की तुलना में पवार का राजनैतिक कद और उनकी स्वीकार्यता सबसे अधिक है।

एनसीपी के प्रवक्ता महेश तपासे ने किया खबरों का खंडन 

कांग्रेस ने इन अटकलों को विराम लगाते हुए इसे विपक्ष को बांटने की साजिश करार दिया है। एनसीपी के प्रवक्ता महेश तपासे ने भी शरद पवार के यूपीए के चेयरपर्सन बनने की खबरों का खंडन किया है। उनका कहना है कि इसे लेकर यूपीए के सहयोगियों के बीच कोई चर्चा नहीं है। ऐसी खबरों का प्रचार जानबूझकर किया जा रहा है जिससे किसान आंदोलन से लोगों का ध्‍यान भटकाया जा सके। कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने भी इस खबर का खंडन करते हुए कहा कि ये अफवाहें विपक्ष को बांटने की नियत से फैलायी जा रही है।