शिमला : एचआरटीसी की स्कूल बस सड़क किनारे की मिट्‌टी धंसने से खाई में गिरी, 3 की मौत

0
66

शिमला.  बंजार हादसे में 46 लोगों की मौत के 12 दिन बाद राजधानी शिमला में 7 छात्राओं को लेकर जा रही एचआरटीसी की स्कूल बस झंझीड़ी के पास सड़क से फिसल कर खाई में गिर गई।  हादसे में 2 छात्राओं, छठी क्लास की मान्या चंदा, मेहल व बस ड्राइवर नरेश कुमार की मौत हो गई। 5 छात्राएं व कंडक्टर घायल हुआ है। इनमें सुनिधि, आतुषि, उमंग, सरीन, रितिका और बस कंडक्टर सुरेश शामिल हैं। आईजीएमसी में इनका इलाज चल रहा है।

चश्मदीद मनु ने बताया कि सुबह करीब 7:30 बजे यह बस झंझीड़ी से चेल्सी कॉन्वेंट स्कूल के लिए निकली। करीब 14 फीट चौड़ी इस सड़क पर अवैध रूप से गाड़ियां पार्क की हुई थी। बस ड्राइवर ने साइड से निकलने की कोशिश की। इसी दौरान मिट्‌टी धंसने से बस असंतुलित होकर खाई में गिर गई। यहां लोक निर्माण विभाग ने क्रैश बैरियर या पैरापिट भी नहीं लगाए हुए थे। हादसे के बाद गुस्साए लोगों ने वहां खड़ी 100 से ज्यादा गाड़ियों में तोड़फोड़ कर दी। स्कूलों के लिए पुरानी बसें भेजने के विरोध में लोगों ने खलीनी सड़क पर चक्का जाम भी किया।

पहले भी टूट चुका था इस बस का पट्टा, लॉक हो चुका था स्टेयरिंग :
जेएनयूआरएम के तहत शिमला शहर को 2009 में जो बसें मिली थीं, उनमें ये भी शामिल थी। 10 साल पुरानी यह बस अक्सर खराब ही रहती थी। इसे रूट पर चलाया भी कम जाता था। कुछ दिन पहले इसी झंगीड़ी रूट पर ही इस बस का पट्टा टूट गया था। मेहली मोड पर भी ताराहॉल स्कूल के स्टूडेंट्स काे ले जाते हुए इस बस का स्टीयरिंग लॉक हो गया था। सवाल ये है कि आखिर पुरानी बस को ही क्यों स्कूल बस के तौर पर चलाया जा रहा था?

झंझीड़ी हादसे पर अाज हाईकाेर्ट करेगा सुनवाई :
झंझीड़ी में हुए बस हादसे के बाद ऐसे ही एक हादसे से जुड़ी जनहित याचिका पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश वी रामसुब्रह्मणियन की बेंच ने मंगलवार को सुनवाई करने का फैसला लिया। प्रदेश के पूर्व महाधिवक्ता व नूरपुर बस हादसे में नियुक्त कोर्ट मित्र श्रवण डोगरा तथा अन्य अधिवक्ताओं ने भी सुनवाई करने के लिए मुख्य न्यायाधीश की बेंच के समक्ष की गुहार लगाई। जिस पर कोर्ट ने इसे नूरपुर स्कूल बस हादसे में लंबित जनहित याचिका वाले मामले के साथ संलग्न कर मामले पर सुनवाई तय की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here