स्लो पॉइजन का काम करता है अंकुरित आलू, जानें इसके नुकसान

0
113

आलू एक ऐसी सब्जी है जिसे लगभग हर व्यक्ति पसंद करता है। खासकर बच्चों को तो आलू से कुछ खास ही लगाव होता है। आलू का एक फायदा यह भी है कि इसे किसी भी अन्य सब्जी के साथ मिलाकर आसानी से बनाया जा सकता है। यही वजह है कि लोग अक्सर अपने घर में एक बार में ही ज्यादा मात्रा में आलू खरीदकर रख लेते हैं। ऐसे में कई बार घर में रखे-रखे इन आलू में अंकुर आने लगते हैं। हालांकि, इसके बावजूद लोग इनका इस्तेमाल करते रहते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि खाने में इन अंकुरित आलू का इस्तेमाल आपकी सेहत के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकता है। इस तरह के आलू खाने से न सिर्फ ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाता है, बल्कि फूड पॉइजनिंग का भी खतरा भी बढ़ जाता है। दरअसल, नेशनल कैपिटल पॉयजन सेंटर की रिपोर्ट के मुताबिक प्राकृतिक तौर पर आलू में दो जहरीले पदार्थ सोलानिन और कैकोनिन पाए जाते हैं। हालांकि, शुरुआत में आलू में इसकी मात्रा काफी कम होती है। लेकिन बाद में जैसे-जैसे ये आलू अंकुरित होने लगते हैं वैसे-वैसे इसमें दोनों जहरीले तत्‍वों की मात्रा में बढ़ने लगती है।

ऐसे में लगातार इस तरह के आलू का सेवन करने से गंभीर परिणाम भुगतने पड़ते हैं। अंकुरित होने पर आलू में मौजूद कार्बोहाइड्रेट स्टार्च शुगर में बदल जाता है। इसके आपके शरीर में जाते ही आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है, जो ब्लड शुगर के मरीजों के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। इसके अलावा अंकुरित आलू हमारे पाचन तंत्र को भी काफी नुकसान पहुंचाता है। इतना ही नहीं अंकुरित आलू का सेवन हमारे लिए स्लो पॉइजन का भी काम करता है। अंकुरित आलू खाने से फूड पॉइजनिंग का खतरा भी काफी बढ़ जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here