Wednesday, September 22, 2021
Homeदेशहैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- दावे की निष्पक्ष जांच जरूरी

हैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- दावे की निष्पक्ष जांच जरूरी

हैदराबाद एनकाउंटर केस में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस एसए बोवडे ने कहा कि लोगों को सच जानने का अधिकार है. हम इस मामले में निष्पक्ष जांच चाहते हैं. अगर आप पुलिस वालों के खिलाफ क्रिमिनल ट्रायल चलाते हैं तो हम कोई आदेश नहीं जारी करेंगे.

चीफ जस्टिस एसए बोवड़े ने तेलंगाना पुलिस से पूछा कि क्या आरोपी हिस्ट्रीशीटर थे. इस पर तेलंगाना पुलिस की ओर से दलील रख रहे वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि नहीं वो लॉरी ड्राइवर और क्लिनर थे. जब पुलिस आरोपियों को इलाके की पहचान के लिए ले जाना चाहती थी, तो थाने के बाहर विरोध प्रदर्शन हुए. सैकड़ों की भीड़ थी. इसलिए हम उन्हें रात में क्राइम सीन पर ले गए. आरोपियों को हथकड़ी नहीं लगाई गई थी. उन्होंने पुलिस कर्मियों की पिस्तौल छीन ली. पुलिस पर पत्थर फेंके.

इसके बाद चीफ जस्टिस एसए बोवडे ने पूछा कि चारों आरोपियों ने पुलिस वालों पर पहले हमला किया था? उन्होंने पुलिस वालों से जो पिस्तौल छीनी थी, उससे उनपर फायर किया था? इस पर वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि जी हां, उन्होंने फायर किया, लेकिन गोली पुलिस वालों को लगी नही.

मुकुल रोहतगी ने PUCL मामले में सुप्रीम कोर्ट एक फैसले को पढ़ना शुरू किया, जिसमें कोर्ट ने एनकाउंटर को लेकर गाइड लाइन बनाई थी. इसके बाद चीफ जस्टिस ने कहा कि हम इस एनकाउंटर के जांच के पक्ष में हैं. हम चाहते हैं कि इस एनकाउंटर की निष्पक्ष जांच हो.

इस पर वकील मुकुल रोहतगी ने तेलंगाना सरकार की ओर से कहा कि पड़ोसी ज़िलों के वरिष्ठ IPS अधिकारियों की SIT बना कर जांच शुरू कर दी गई है. इसमें कोई शक नही कि इन्ही चारों आरोपियों ने घटना को अंजाम दिया था. सीसीटीवी फुटेज सबूत हैं, जिसमें एक आरोपी के पास डॉक्टर की स्कूटी थी और वो पेट्रोल खरीद रहा था. डॉक्टर की लाश को जलाने के लिए पेट्रोल खरीदा गया था.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो SIT का गठन राज्य सरकार ने जांच के लिए किया है वो जांच चलती रहेगी. मुकुल रोहतगी ने कहा कि जो जज नियुक्त होंगे वो SIT की जांच पर नजर रखेंगे. -SIT जो जांच करेगी उसकी रिपोर्ट वो जज को देंगे. अगर जज को लगता है कि किसी पहलू की जांच नही हुई तो वो जांच को कहेंगे, लेकिन एक ही समय दो अलग-अलग जांच एक ही मामले के लिए नहीं चल सकती.

वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि जांच का नतीजा आने दें, तभी कौन ज़िम्मेदार है? इसका फैसला होगा. पुलिस ने FIR दर्ज कराई है. उन्होंने पुलिसकर्मियों के हथियार छीन कर उनकी हत्या का प्रयास किया. प्रोक्सिक्यूशन के पास कोई गवाह नहीं तो ये कैसा ट्रायल होगा?

इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि लोगों को सच जानने का अधिकार है. कोर्ट ने मुकुल को कहा कि अगर आप पुलिस वालों के खिलाफ क्रिमिनल ट्रायल चलाते हैं तो हम कोई आदेश नहीं जारी करेंगे, लेकिन अगर आप ऐसा नहीं करते तो हम जांच का आदेश देंगे.

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments