Thursday, September 16, 2021
Homeदिल्लीसुप्रीम कोर्ट ने कहा : यूपी व हरियाणा सरकार काे समाधान के...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा : यूपी व हरियाणा सरकार काे समाधान के लिए दाे हफ्ते का समय

किसानों के धरने के कारण दिल्ली की सीमाएं बंद हाेने से लाेगाें काे आवाजाही में हो रही परेशानी काे लेकर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है। जस्टिस संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा, ‘किसान आंदोलनकारियाें काे प्रदर्शन करने का अधिकार है। लेकिन वे सड़कों की आवाजाही को अनिश्चितकाल तक बंद नहीं कर सकते। इस मामले के समाधान के लिए केंद्र सरकार को कुछ करना चाहिए।’

बेंच ने केंद्र और संबंधित राज्य सरकाराें काे इसके समाधान के लिए दाे हफ्ते का समय दिया है। नोएडा की महिला मोनिका अग्रवाल की याचिका पर शीर्ष काेर्ट ने यह टिप्पणियां की हैं। याचिकाकर्ता का कहना था कि आंदोलनकारियों ने दिल्ली की सीमाओं को बाधित कर रखा है। इस वजह से उसे नोएडा से दिल्ली आने में पहले जहां 20 मिनट लगते थे, वहीं अब दो घंटे का समय लग रहा है। यह समस्या अन्य लोगों की भी है। परेशानी के कारण बहुत से लोग नौकरी छोड़ने को मजबूर हो गए हैं। हालांकि, याचिकाकर्ता के मौजूद न रहने के कारण साेमवार काे सुनवाई 20 सितंबर तक के लिए टाल दी गई है।

केंद्र व राज्यों से पूछा- अब तक सड़कें बंद क्यों?

बेंच ने कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व में भी कई निर्णय दिए हैं। उनमें कहा है कि किसी भी धरना प्रदर्शन के कारण इस तरह से सड़क को बंद नहीं किया जा सकता। शाहीनबाग प्रदर्शन मामले में भी कोर्ट ने कहा था कि प्रदर्शनकारियों को प्रदर्शन करने का अधिकार है। मगर वे सड़क को ब्लॉक नहीं कर सकते। फिर भी सड़कें बंद क्यों हैं?’

बहुत समय दिया जा चुका, अब सरकारें हल निकालें

सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार ने दलील दी कि किसानों को समझाया जा रहा है। कुछ समय दिया जाए। इस पर जस्टिस कौल ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा, ‘हमने आपका हलफनामा पढ़ा है। आपको बहुत समय दिया जा चुका। अगर किसान आंदोलनकारियों को सरकार की नीति स्वीकार नहीं तो वे इस वजह से सड़कों पर आवागमन बंद कर दूसरों को नुकसान नहीं पहुंचा सकते।’

केंद्र सरकार ने भी हल के लिए कुछ समय मांगा। इस पर कोर्ट ने केंद्र, यूपी व हरियाणा सरकार को दो हफ्ते का समय देते हुए कहा, ‘हमें इस बात की चिंता नहीं है कि आप इस मुद्दे को कैसे सुलझाते हैं? चाहे राजनीतिक रूप से, चाहे प्रशासनिक रूप से या न्यायिक रूप से सुलझाएं। लेकिन सड़कों को किसी भी सूरत में अवरूद्ध नहीं किया जाना चाहिए। जनता को सड़क बंद होने के कारण आवागमन में परेशानी हो रही है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments