Thursday, September 23, 2021
Homeहरियाणाकला-संस्कृति : सूरजकुंड मेला शुरू, 40 देशों के शिल्पकार होंगे शामिल; 16...

कला-संस्कृति : सूरजकुंड मेला शुरू, 40 देशों के शिल्पकार होंगे शामिल; 16 फरवरी तक चलेगा

सूरजकुंड मेले में सांस्कृतिक विरासत की प्रसतुति देती विदेशी कलाकार।

फरीदाबाद. हरियाणा की धरती पर देशी-विदेशी शिल्पकारों की कारीगरी का गवाह बनने के लिए सूरजकुंड मेला तैयार है। शनिवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मेले का उद्घाटन किया। 16 फरवरी तक चलने वाले इस मेले में उज्बेकिस्तान पार्टनर कंट्री है जबकि थीम हिमाचल प्रदेश राज्य की है।

मेले में कुल 40 देशों के शिल्पकार भाग ले रहे हैं। इसमें इंग्लैंड भी हैं, जो कि पहली बार शामिल हो रहा है। इसके अलावा अफगानिस्तान, आर्मेनिया, बांग्लादेश, भूटान, मिस्न, इथियोपिया, घाना, कजाकिस्तान, मलावी, नामीबिया, नेपाल, रूस, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका, सूडान, सीरिया, तजाकिस्तान, थाईलैंड, ट्यूनीशिया, तुर्की, युगांडा, ब्रिटेन, वियतनाम और जिम्बाब्वे के शिल्पकार भी शामिल होंगे।

मेले में आए विदेशी सैलानी।

हिमाचल की सांस्कृतिक विरासत गुलदस्ता भी शामिल

हिमाचल प्रदेश इस बार थीम राज्य है। इस राज्य के विभिन्न जिलों से कलाकार शिल्प और हस्तशिल्प के माध्यम से अपनी संस्कृति और समृद्ध विरासत को प्रदर्शित करेंगे। हिमाचल प्रदेश के सैकड़ों कलाकार विभिन्न लोक कलाओं और नृत्यों का प्रदर्शन भी करेंगे। पारंपरिक नृत्यों और कला रूपों से लेकर व्यंजनों तक, दर्शकों को लुभाने के लिए हिमाचल के कलाकार सांस्कृतिक विरासत का गुलदस्ता लेकर आए हैं।

मेले में प्रस्तुति देते भारतीय कलाकार पारंपरिक वेषभूषा में।

इस बार मेले में तीन फैशन शो भी होंगे

मेले की मानद सलाहकार प्रसिद्ध फैशन डिजाइनर रितु बेरी की निगरानी में इस बार तीन फैशन शो होंगे। जबकि आम तौर पर एक ही होता है। इसके अलावा दर्शकों के लिए पूरे पखवाड़े में सांस्कृतिक संध्याओं का प्रदर्शन दर्शकों को मनोरंजन के लिए आकर्षित करेगा। हास्य कवि सम्मेलन सूफियाना कलाम, कव्वालियों की गूंज, नृत्य प्रदर्शन, गायक पदमजीत सहरावत व अन्य कलाकारों द्वारा मधुर बॉलीवुड नंबरों से दर्शकों को दिन भर मनोरंजन होगा।

मेले में प्रस्तुति देते भारतीय कलाकार पारंपरिक वेषभूषा में।

दिल्ली एनसीआर के लोगों के पास मेले तक पहुंचने के विकल्प

उद्घाटन समारोह में दीप प्रज्वलित करते राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य और मुख्यमंत्री मनोहर लाल।

  • दिल्ली, नोएडा व गाजियाबाद की तरफ से आने वाले लोग मेट्रो का इस्तेमाल कर तुगलकाबाद मेट्रो स्टेशन व बदरपुर मेट्रो स्टेशन तक पहुंच सकते हैं।
  • बदरपुर मेट्रो स्टेशन के पास से हरियाणा रोडवेज की बसें मेला परिसर तक चलेंगी। दोनों स्टेशनों से आने वाले यात्री इन बसों से मेला परिसर तक पहुंच सकते हैं।
  • बदरपुर बॉर्डर से रोज हरियाणा रोडवेज की बसें 19 ट्रिप मेला परिसर के लिए लगाएंगी। इसके अलावा यहां से मेला परिसर तक पहुंचने के लिए ई-रिक्शा व ऑटो का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • पलवल व बल्लभगढ़ की तरफ से आने वाले लोग बल्लभगढ़ बस अड्डे से हरियाणा रोडवेज में बैठकर मेला परिसर तक पहुंच सकेंगे। यहां से हर आधे घंटे में लोगों को मेले के लिए बस की सुविधा मिलेगी। हरियाणा रोडवेज की बसें रोजाना यहां से 26 ट्रिप मेले के लिए लगाएंगी।
  • ये बसें बल्लभगढ़ बस अड्डे से एनआईटी बस अड्डे पहुंचेंगी और यहां से अनखीर चौक होते हुए मेला परिसर तक पहुंचेंगी। बल्लभगढ़, पलवल के साथ फरीदाबाद से भी लोग इन बसों का प्रयोग कर सकेंगे। इसके अलावा ऑटो से भी मेला परिसर तक पहुंचा जा सकता है।
  • जो लोग अपनी गाड़ियों से मेले में जाना चाहते हैं, उन्हें भी वहां पहुंचने में किसी तरह की दिक्कत न हीं होगी। बल्लभगढ़ व पलवल की तरफ से लोग अनखीर चौक से होते हुए अपनी गाड़ी से मेला परिसर तक पहुंच सकते हैं।
  • गुड़गांव की तरफ से आने वाले लोग भी सूरजकुंड रोड का इस्तेमाल कर आसानी से मेले में पहुंच सकते हैं।
  • साउथ दिल्ली के लोग करण सिंह शूटिंग रेंज की तरफ से आ सकते हैं।

मेले के उद्घाटन समोरोह के बाद सामूहिक फोटो में राष्ट्रपति के साथ हरियाणा के राज्यपाल, मुख्यमंत्री और अन्य नेता।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments