पुरुषों की तुलना में महिलाओं में एड्स के लक्षण होते हैं अलग ऐसे करे पहेचान

0
73

दिसंबर को हर साल ‘विश्व एड्स दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. इस दिन लोगों को एड्स के बारे में जागरूक और इससे बचने के उपाय के बारे में बताया जाता है. आज भी इस बीमारी की कोई दवा या इलाज नई बन पाई है. ‘वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन’ के मुताबिक, 2021 के आखिर तक दुनियाभर में 3.84 करोड़ लोग ऐसे हैं. जो HIV वायरस से संक्रमित हैं. 2021 में करीब 6.5 लाख लोगों की दुनिया भर में HIV के चलते मौत हो चुकी है.

एड्स (AIDS) यानी ‘एक्वायर्ड इम्यूनो डिफिशिएंसी सिंड्रोम’. एड्स एचआईवी (HIV) यानी ‘ह्यूमन इम्यून डेफिशियेंसी वायरस’ से पैदा होता है. इस वायरस के चलते ही लोगों को आगे चलकर AIDS की बीमारी होती है. यह वायरस शरीर के इम्युनिटी सिस्टम को कमजोर कर देता है जिससे शरीर दूसरा कोई संक्रमणीय बीमारी झेलने के काबिल नहीं बचता.एचआईवी और इसके संक्रमण के बहुत से ऐसे शुरुआती लक्षण हैं जिन्हें लोग मामूली समझकर नजरअंदाज कर देते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि ये लक्षण कॉमन बीमारी जैसे कोल्ड और फ्लू की तरह होते हैं. यदि शुरुआत में ही इन लक्षणों को पहचान लिया जाए तो इस बीमारी का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है. एड्स के लक्षण महिलाओं और पुरुषों, दोनों में अलग-अलग होते हैं. आज इस लेख के मध्यम से जानिए कैसे महिला AIDS की पहचान कर सकती है.

जिन महिलाओं में एचआईवी का वायरस प्रवेश कर जाता है उनका पीरियड साइकिल बिगड़ने लगता है. कुछ महिलाओं के पीरियड बंद हो जाते हैं जबकि कुछ महिलाओं में सामान्य से अधिक या कम पीरियड्स जैसी समस्या देखने को मिलती है.शरीर में जैसे ही एचआईवी वायरस प्रवेश करता है तो इससे भूख कम लगने लगती है और शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण में भी रुकावट आती है. यदि लगातार आपका वजन कम हो रहा है तो यह एचआईवी का लक्षण हो सकता है.

अगर आपके पेट में कोई न कोई समस्या होती रहती है तो ये भी चेतावनी वाली बात है. तुरंत पेट की जांच करवाएं जिससे पता चल सके कि ऐसा क्यों है.लिंफ नोड्स गर्दन में सिर के पीछे, कमर और आर्मपिट्स में होते हैं. यह नोड्स इम्युनिटी सिस्टम का हिस्सा होते हैं. जैसे ही शरीर में एचआईवी वायरस प्रवेश करता है तो ये हमारी इम्यूनिटी सिस्टम पर अटैक करता है जिससे लिंफ नोड्स में सूजन आ जाती है. यदि आपको लिंफ नोड्स में सूजन महसूस होती है तो तुरंत डॉक्टर को संपर्क करें

एचआईवी वायरस के चलते फ्लू और हल्का बुखार जैसे कई लक्षण दिखते हैं. अगर आपको बार-बार बुखार आ रहा है तो ये भी एचआईवी का लक्षण हो सकता है. दूसरी तरफ अगर आपको बिना कुछ किए थकान और शरीर के अलग-अलग हिस्सों में दर्द महसूस हो रहा है तो ये भी एचआईवी वायरस की वजह से हो सकता है. एचआईवी का सबसे कॉमन लक्षण बॉडी में लाल रैशेज होना है. इससे किसी को खुजली होती है और किसी को नहीं भी होती. हर व्यक्ति में ये रैशेज अलग-अलग तरह से हो सकते हैं लेकिन, अगर आपको ऐसी समस्या आ रही है तो तुरंत अपने डॉक्टर को संपर्क करें.

  • यदि कोई महिला किसी पुरुष (HIV संक्रमित) के साथ बिना प्रोटेक्शन के संभोग करती हैं तो इससे एड्स हो सकता है.
  • एक ही सुई का बार-बार इस्तेमाल भी एड्स की वजह हो सकता है.
  • खुले घावों के संपर्क में भी आने से एड्स हो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here