Sunday, September 26, 2021
HomeदेशMP में सिस्टम की लापरवाही : भोपाल के हमीदिया अस्पताल में वेंटिलेटर...

MP में सिस्टम की लापरवाही : भोपाल के हमीदिया अस्पताल में वेंटिलेटर बंद होने से कोरोना मरीज की मौत

ऑक्सीजन की कमी के बाद अब घटिया वेंटिलेटर भी मरीजों की जान लेने लगे हैं। सोमवार को भोपाल के हमीदिया अस्पताल के मेडिकल वार्ड-3 में एक वेंटिलेटर अचानक बंद हो गया। इससे कोविड मरीज को दूसरे वेंटिलेटर पर शिफ्ट करने से पहले ही उसकी जान चली गई। यह मरीज सोमवार को ही सीहोर के नसरुल्लागंज से हमीदिया रैफर किया गया था। इससे भी हैरानी की बात ये है कि हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ. लोकेंद्र दवे को वेंटिलेटर खराब होने और इससे किसी मरीज की मौत होने की घटना की देर रात तक जानकारी नहीं थी।

45 मिनट बाद तबीयत बिगड़ी, आधा घंटा दूसरा वेंटिलेटर ढूंढ़ने में लगा

अस्पताल सूत्रों ने बताया कि वेंटिलेटर बंद होने की घटना दोपहर 3 से 4:30 बजे के बीच की है। यहां 58 वर्षीय कोविड मरीज को सीहोर से लाया गया। उनकी हालत गंभीर थी, इसलिए मेडिकल वार्ड-3 के पलंग नंबर 3 पर उन्हें तत्काल सपोर्ट पर रखा गया। साथ ही वेंटिलेटर लगाया गया। इसके करीब 45 मिनट बाद मरीज को बेचैनी की शिकायत हुई।

डॉक्टर और ड्यूटी नर्सेस मरीज की मेडिकल जांच कर रहे थे, तभी वेंटिलेटर बंद हो गया। आनन-फानन में दूसरे वार्डों में खाली रखे वेंटिलेटर्स ढूंढ़े गए। करीब आधे घंटे बाद दूसरे मेडिकल वार्ड से एक वेंटिलेटर मिला। मरीज को खराब वेंटिलेटर से सही वेंटिलेटर पर शिफ्टिंग कर ही रहे थे, लेकिन इससे पहले ही मरीज की मौत हो गई। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि वेंटिलेटर खराब होने के बाद मरीज की ऑक्सीजन सप्लाई बंद हो गई थी।

हमीदिया को पीएम केयर फंड से अब तक 40 से ज्यादा वेंटिलेटर मिल चुके हैं। इनमें से 9 खराब पड़े हैं। अस्पताल का सेंट्रल सक्शन प्लांट भी खराब है। सोमवार को पता चला कि वार्ड में भर्ती गंभीर मरीजों के सक्शन के लिए डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ काफी देर परेशान होते रहे। प्लांट खराब होने से मेडिकल वार्ड-3 सहित दूसरे वार्डों में फेफड़ों में कफ, पानी भरना, पेट में सेप्सिस सहित दूसरी बीमारियों के मरीजों का सक्शन बंद रहा। फेफड़ों में जमा कफ को सक्शन प्लांट की मदद से शरीर के बाहर निकाला जाता है।

5 वेंटिलेटर 2 दिन से खराब

मेडिकल वार्ड-3 में कोविड मरीजों के लिए लगाए 5 वेंटिलेटर खराब हैं। इसके चलते कई मरीजों को जरूरत होने के बाद भी वेंटिलेटर नहीं मिल पाता। इसके चलते ड्यूटी नर्सेस को मरीजों को हाईफ्लो ऑक्सीजन सपोर्ट पर शिफ्ट कर इलाज देना पड़ता है। कुछ अच्छे वेंटिलेटर स्टोर में रखे हुए हैं। इनमें से पांच वेंटिलेटर एक मई को निकाले गए थे।

अब तक पीएम केयर फंड से मिले 9 वेंटिलेटर खराब हो चुके

हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ. लोकेंद्र दवे ने यह जानकारी दी। आइए जानते हैं उन्होंने व्यवस्थाओं को लेकर क्या कहा-

पीएम केयर फंड से मिले कितने वेंटिलेटर खराब हो चुके हैं?

9 वेंटिलेटर खराब हो गए हैं। इनकी शिकायत संबंधित कंपनी से की गई है।

वेंटिलेटर बंद होने से एक मरीज की मौत हुई? ऐसा क्यों हुआ?

ऐसी किसी घटना की रिपोर्ट ड्यूटी डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ ने नहीं दी है।

वार्ड में पांच वेंटिलेटर खराब हैं। इन्हें क्यों नहीं सुधारा गया?

दो दिन पहले शिकायत मिली थी। फिर सर्जरी विभाग में बैकअप सपोर्ट पर रखे पांच वेंटिलेटर यहां लगाए हैं। खराब वेंटिलेटर सुधरवाने के निर्देश दिए हैं।

सक्शन प्लांट खराब है। गंभीर मरीजों का सक्शन नहीं हो रहा है?

सक्शन प्लांट सही है। आईसीयू में मरीजों का सक्शन हो रहा है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments