इस बीच अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी में बदलाव की संभावना से इन्‍कार किया है। उन्‍होंने कहा कि अब अफगान के लोगों को ही एकजुट होकर अपने मुल्‍क के भविष्‍य के लिए लड़ना होगा। दरअसल व्हाइट हाउस में संवाददाताओं ने राष्‍ट्रपति से पूछा था कि क्‍या सैनिकों की वापसी में कोई बदलाव आ सकता है। इस पर बाइडन ने कहा कि ऐसा नहीं होगा। हमने बीस साल से ज्‍यादा समय में एक हजार अरब डॉलर से अधिक की रकम खर्च की है। अफगान बलों के 3,00,000 से अधिक जवानों को ट्रेनिंग दी। अब उन्हें अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी।