Sunday, September 19, 2021
Homeमध्य प्रदेशइंदौर में 1.90 लाख डोज का लक्ष्य, 451 सेंटर बनाए

इंदौर में 1.90 लाख डोज का लक्ष्य, 451 सेंटर बनाए

जिले में 25 अगस्त से दो दिनी वैक्सीनेशन महाभियान 2.0 की तैयारियां हो चुकी हैं। इसके लिए 451 सेंटर बनाए गए हैैं। इनमें से 60 से ज्यादा कोवैक्सीन के सेंटर हैं। शहरी क्षेत्र में 229 व ग्रामीण क्षेत्रों में 222 सेंटर हैं। वैक्सीनेशन सुबह 8 बजे से शुरू होगा। देर शाम तक चलेगा। इस दौरान 1.90 लाख डोज लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें पहला व दूसरा, दोनों डोज लगाए जाएंगे। गर्भवती महिलाओं के लिए भी 19 जोनों में सेंटर बनाए गए हैं।

वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन स्लॉट बुकिंग व ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था है। लोगों से अपील की गई है, जिन लोगों ने पहला व दूसरा डोज नहीं लगवाया है। दूसरे डोज की निर्धारित अवधि हो गई है, वे वैक्सीन लगवाएं।

जिले में वैसे वैक्सीनेशन के लिए 28 लाख पात्र लोग हैं। इनमें से शहरी क्षेत्र में 100 % का पहला डोज हो चुका है, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में 1.28 लाख लोग ऐसे हैं, जिन्होंने अभी पहला डोज ही नहीं लगवाया है। इसके अलावा, शहरी क्षेत्र में 5% ऐसे लोग भी हो सकते है, जिन्होंने हाल में 18 वर्ष की उम्र पूरी की है। ऐसे ही करीब 28 % (6.64 लाख) लोग ऐसे हैं, जिनके दोनों डोज पूरे हो चुके हैं। इसके चलते मुख्य फोकस अब दूसरे डोज पर है, क्योंकि अभी भी 2.50 लाख लोग ऐसे हैं, जिनके पहले डोज की अ‌वधि खत्म हो चुकी है, लेकिन दूसरा डोज नहीं लगाया है। महाभियान 2.0 में उन्हें डोज लगाए जाएंगे।

इन बिंदुओं पर फोकस

इधर, कलेक्टर मनीष सिंह ने मंगलवार को जिले के सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर्स के साथ चर्चा की। कलेक्टर ने कहा कि तीन मुख्य मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

– पहले ऐसे व्यक्ति जिनको पहला डोज अभी तक नहीं लगा है, उन्हें चिन्हित कर टीका लगवाया जाएगा।

– गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण पर भी विशेष ध्यान।

– ऐसे व्यक्ति जिनको कोविड वैक्सीन का दूसरा डोज ड्यू है। वे डिफॉल्टर की श्रेणी में आते हैं। उन्हें वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना वायरस से सुरक्षा, तभी होगी जब हर व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लग जाएंगे।

बिना दूसरे डोज के प्रमाणपत्र के नहीं मिलेगा प्रवेश

लोगों को दूसरा डोज के प्रति जागरुक करने के लिए सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर्स के माध्यम से जन जागरण किया जाएगा। कलेक्टर ने कहा, कई संस्थाओं के माध्यम से भी दूसरे डोज के वैरीफिकेशन का काम किया जाएगा। इसके तहत इंडस्ट्रीज, सिनेमा हॉल, मॉल, मंडी व मंदिरों में उन व्यक्तियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा, जिनका वैक्सीन का दूसरा डोज अभी तक ड्यू है। इसी के साथ मॉल में लकी ड्रॉ आदि गतिविधियों के माध्यम से भी लोगों को टीकाकरण कराने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

जनप्रतिनिधियों, क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों के सदस्य, समाजसेवी संगठनों, जिला प्रशासन द्वारा भी महाअभियान को सफल बनाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। कलेक्टर ने कहा, जिस तरह से इंदौर के नागरिकों ने वैक्सीनेशन महाअभियान के प्रथम चरण को सफल बनाया था, उसी तरह से दूसरे चरण में भी उनका योगदान महत्वपूर्ण रहेगा।

इंदौर लेगा शतप्रतिशत वैक्सीनेशन का संकल्प

जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने वैक्सीनेशन महाअभियान को जन आंदोलन का रूप देकर सफल बनाने की अपील की है। संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने भी अपील करते हुए कहा कि इंदौर जो संकल्प लेता है, वह सदैव पूरा करता है। पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि वैक्सीनेशन कोरोना से बचाव का सुरक्षा कवच है। हमें कोरोना मुक्त इंदौर के निर्माण में सहभागिता निभानी है।

कमिश्नर डॉ. पवन कुमार शर्मा ने कहा, वैक्सीनेशन महाभियान को त्यौहार की तरह मनाया जाए। उन्होंने कहा, दोनों डोज लगने के बाद ही व्यक्ति संक्रमण से सुरक्षित रह पाता है। गर्भवती भी महाअभियान के दौरान टीकाकरण करवाएं। सामाजिक कार्यकर्ता पद्मश्री डॉ. जनक पलटा ने कहा, लोग स्वयं की, परिवार व समाज की सुरक्षा के लिए टीकाकरण जरूर करवाएं। खजराना गणेश मंदिर के मुख्य पुजारी सतपाल भट्ट ने नागरिकों से अपील की कि महाअभियान के दौरान सभी पात्र लोग टीका जरूर लगवाएं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments