बता दें कि यहां कोरोना वायरस फैलने से रोकने के लिए रोको-टोको अभियान चलाया जा रहा है। जिले में बाजारों या किसी भी सार्वजनिक स्थल पर कोई व्यक्ति मास्क के बिना नजर आया तो उसे रूप सिंह स्टेडियम की जेल में लाया जाता है। कल ऐसे 18 लोगों को खुली जेल में पहुंचाया गया और इनसे कोरोना महामारी निबंध भी लिखवाया गया। ज्यादातर लोगों ने लिखा कि यह एक बीमारी है जो चीन से फैली है। कोरोना महामारी से बचाव के लिए मास्क जरूरी है। लोगों को इसके संक्रमण से बचने के लिए दो गज शारीरिक दूरी बनाए रखना है। यदि लापरवाही के कारण आप कोरोना की चपेट में आएंगे तो आपके स्वजन भी संक्रमण के कारण बीमार हो सकते हैं। वहीं, इन लोगों ने निबंध में कोरोना से बचने के लिए कई तरीके भी बताए। साथ ही उन्होंने इस तरह लापरवाही नहीं बरतने का भी प्रण लिया।

युवक का सवाल- उपचुनाव में कोरोना नहीं था क्या?

वहीं, एक युवक ने हालही में मध्य प्रदेश में हुए उपचुनावों के दौरान दिशा-निर्देशों की अनदेखी को लेकर सवाल किया कि प्रदेश में उपचुनाव था, क्या तब कोरोना नहीं था। जगह-जगह चुनावी सभाओं में भीड़ लग रही थी। लोग बिना मास्क के घूम रहे थे। प्रदेश में सरकार बन गई तो कोरोना बढ़ने लगा। युवक ने कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहता हूं कि सरकार व प्रशासन की इस दोहरी नीति से जनता परेशान हो गई है। हालांकि अब मैं कोविड नियमों का पालन करूंगा।’