Monday, September 27, 2021
Homeटॉप न्यूज़कोरोना के चलते इन छह राज्यों में हो रहीं सबसे ज्यादा मौतें,...

कोरोना के चलते इन छह राज्यों में हो रहीं सबसे ज्यादा मौतें, देखें केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ये आंकड़ें

देश में फैली कोरोना महामारी पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि पिछले 20 दिनों से देश में सक्रिय मामलों में कमी देखी जा रही है। 3 मई को देश में 17.13 फीसद सक्रिय मामले थे, जो कि अब यह घटकर 11.12 फीसद  हो गएं हैं। रिकवरी रेट भी 87.76 फीसद हो चुकी है। देश में 2 करोड़ 30 लाख से ज्यादा लोग रिकवर हो चुके हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में 18 राज्य ऐसे हैं जहां पॉजिटिविटी 15 फीसद से अधिक है जिनमें लगभग सभी राज्यों में पॉजिटिविटी रेट में लगातार कमी दर्ज की जा रही है। 5 से 15 फीसद पॉजिटिविटी वाले 14 राज्य हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि  1,00,000 से अधिक सक्रिय मामले घटकर अब केवल 8 राज्यों में रह गए हैं। 50,000 से 1,00,000 के बीच सक्रिय मामले वाले राज्य 8 हो गए हैं। 50,000 से कम सक्रिय मामले वाले 20 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हैं। केवल 7 राज्य हैं जो 10,000 से अधिक कोरोना के नए मामलों की रिपोर्ट कर रहे हैं और 5,000 से 10,000 मामलों वाले 6 राज्य हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य सचिव ने सबसे ज्यादा मौतों वाले राज्यों के नाम बताए। उन्होंने कहा कि 6 राज्यों में सबसे ज्यादा मौतें हो रही हैं। ये राज्य महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, यूपी, पंजाब और दिल्ली हैं।

अधिकतर राज्यों में पॉजिटिविटी रेट में आ रही कमी

उन्होंने कहा कि देश में 18 राज्य ऐसे हैं जहां पॉजिटिविटी 15 फीसद से अधिक है, जिनमें लगभग सभी राज्यों में पॉजिटिविटी रेट में लगातार कमी दर्ज की जा रही है। 5 से 15 फीसद पॉजिटिविटी वाले 14 राज्य हैं। 4 राज्यों में 5 फीसद से कम पॉजिटिविटी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में अब तक 18.41 करोड़ वैक्सीन डोज 45 वर्ष से ज्यादा आयु वर्ग, हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए केंद्र सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई हैं। 18 से 44 आयु वर्ग के लिए 92 लाख के लगभग डोज अब तक उपलब्ध कराई गई हैं।

लव अग्रवाल ने बताया कि ब्लैक फंगस के लिए एमफोटेरेसिन-बी जिसकी देश में सीमित उपलब्धता थी, उसे बढ़ाया जा रहा है। 5 अतिरिक्त मैन्युफैक्चर्स का लाइसेंस दिलाने का कार्य किया जा रहा है। अभी जो मैन्युफैक्चर्स हैं, वो भी उत्पादन बढ़ा रहे हैं

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments