Thursday, September 23, 2021
Homeलाइफ स्टाइललाइफ स्टाइल : इंटरनेट ने कुछ यूं बदली फैशन की दुनिया

लाइफ स्टाइल : इंटरनेट ने कुछ यूं बदली फैशन की दुनिया

इस वर्ष 3 अक्तूबर को इंटरनेट 50 साल का हो गया था। वक्त के साथ दुनिया के तौर-तरीके भी बदले। बिजनेस से लेकर शिक्षा तक, हर चीज अब इंटरनेट के प्रभाव में है। हम इस पर इतना ज्यादा निर्भर हो चुके हैं कि हर एक क्लिक की एक कहानी है। वक्त के साथ ही इंटरनेट की मदद से फैशन इंडस्ट्री भी हर किसी की पहुंच में आई है।

ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स की वजह से अब खरीदारी करना आसान हो गया है। फैशन ब्रांड क्लोव एंड डैंडलिअन की फाउंडर संयुक्ता नायर का मानना है कि केवल ई कॉमर्स ही नहीं, बल्कि इंस्टाग्राम जैसे मंचों पर किसी फोटो के हिसाब से खरीदारी कर पाने के कारण किसी भी व्यक्ति को जो चाहिए, उसे खरीदना अब आसान हो गया है। उनके शब्दों में, ‘सोशल मीडिया और बिक्री से प्रेरित उसके विज्ञापनों और प्रायोजित पोस्ट के कारण विविध ब्रांड के लिए उनके मनमुताबिक ग्राहकों तक पहुंचना आसान हुआ है।

ग्राहकों के लिए भी अब यह समझना आसान है कि स्टोर पर क्या उपलब्ध है और इस तरह वह सारी जानकारी के साथ खरीदारी कर पाता है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि सरलता, सुविधा और पहुंच के नाते इंटरनेट फैशन जगत के लिए मददगार हुआ है और इसका सबसे भरोसेमंद माध्यम साबित हुआ है।’

फैशन की दुनिया को लाभ

डिजाइन के नजरिये से क्या इंटरनेट फैशन जगत के विकास में मददगार हुआ है? फैशन डिजाइनर खांडवाला की मानें तो,‘इसके कारण निश्चित रूप से पूरी प्रक्रिया सरल हुई है।

अब एक फैशन डिजाइनर अपने खरीदार और संबंधित आंकड़ों तक सीधी पहुंच रखता है। इस तरह बिचौलियों की भूमिका खत्म होती है। यह छोटे डिजाइनरों और उभरते हुए डिजाइनरों के लिए खास मददगार साबित हुआ है, जो बहुत ज्यादा पैसे इस पर नहीं लगा सकते।’

हालांकि, जैसा कि  स्टैन ली का कहा मशहूर है-ज्यादा शक्ति से ज्यादा जिम्मेदारी भी आती है। फैशन जगत कई कारणों से इसका खामियाजा भुगत रहा है। खांडवाला मानती हैं कि अधिकतर को इंटरनेट से मिली आजादी के कारण बढ़ी जिम्मेदारी से कोई लेना-देना नहीं है।

उनके शब्दों में, ‘इसका दूसरा पहलू यह है कि मौलिक डिजाइन और विचारों तक आसान पहुंच के कारण उनकी चोरी आसान बन गई है और जिस पर व्यावहारिक रूप से कोई कानूनी परिणाम भी नहीं भुगतना पड़ता। यद्यपि कुछ को इससे वित्तीय चोट पहुंचती है, पर इसका प्रभाव इससे कहीं ज्यादा घातक है। दुर्भाग्यपूर्ण ढंग से यह फैशन की दुनिया को ज्यादा सुस्त, विविधता, मौलिकता और रचनात्मकता विहीन बनाता है।’

उभरती प्रतिभाओं के लिए वरदान

फैशन इंडस्ट्री के अधिकतर लोगों के लिए, फिर चाहे वे डिजाइनर हों, ब्रांड हों, लेबल हों या विशेषज्ञ, इंटरनेट ने फैशन बिजनेस में अहम भूमिका अदा की है। हाउस ऑफ अनिता डोंगरे के सीईओ कविंद्र मिश्रा की राय में हाल के वर्षों में फैशन के प्रचार में इंटरनेट ने केंद्रीय भूमिका निभाई है।

कोई भी एक परंपरागत ब्रांड 800 से 1000 बिक्री केंद्रों (रिटेल स्टोर और ई कॉमर्स वेबसाइट्स) पर उपलब्ध है। कविंद्र मिश्रा कहते हैं, ‘इंटरनेट के माध्यम से फैशन का ताजा चलन उन छोटे शहरों के लोगों तक भी पहुंच जाता है, जहां ऑफलाइन बिजनेस का प्रसार नहीं होता। इसलिए मेरे विचार से यह निश्चित रूप से सकारात्मक है। और चूंकि जानकारी मुफ्त में लोगों तक पहुंचती है, इसलिए इच्छुक उपभोक्ताओं का एक नया वर्ग भी सामने आया है।

वे विविध ब्रांड और फैशन जगत को जान रहे हैं। कुल मिलाकर यह बेहद सकारात्मक परिवर्तन है।’ एक और बात है, जिसके कारण विविध ब्रांड और डिजाइनर इंटरनेट की मदद से आगे बढ़े हैं। वह यह है कि मशहूर शख्सीयतें सोशल मीडिया पर अपने परिधानों को साझा करती रहती हैं। फैशन डिजाइनर जोड़ी साक्षा और किन्नी बताती हैं कि उनका ऐसा पहला मौका वह था, जब एक सेलिब्रिटी ने उनका बनाया परिधान पहना और उसे ऑनलाइन साझा किया। इसके परिणामस्वरूप लोगों का ध्यान उनकी तरफ गया।

साक्षा कहती हैं, ‘फैशन और सेलिब्रिटीज एक नाम मानिए। और डिजाइनर की कोई पहचान न होते हुए भी, यह उसके बनाए परिधान पहने सेलिब्रिटी का असर है कि उसके कई सौ फॉलोअर बन जाते हैं और वह इंटरनेट के माध्यम से नई रोशनी में आ जाता है। जब कोई सेलिब्रिटी आपके बनाए परिधान को पहनता है और उसे सोशल मीडिया पर डालता है, तो वह घड़ी अनमोल होती है।’

किन्नी इसमें जोड़ती हैं, ‘बिक्री के नाते कहें तो आपको इंटरनेट पर देखे जाने के साथ बढ़ता जाता ग्राफ दिखाई देता है, साथ ही नए फॉलोअर्स भी, जो इस इंतजार में बैठे होते हैं कि अब कौन सा सेलिब्रिटी अगला परिधान कब और क्या पहनेगा। इसमें ब्लॉगर्स और मीडिया का भी असर होता है, जो उस खास लुक को अपनी वेबसाइट पर फिर से साझा करते हैं और आपके बारे में एक ब्रांड की तरह बात करते हैं जिससे आपको और ज्यादा लोग जानने लगते हैं।’

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments