Sunday, September 19, 2021
Homeबिहारतिरंगा जुलूस में गूंजा था 'अंग्रेजों भारत छोड़ो' का नारा

तिरंगा जुलूस में गूंजा था ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ का नारा

जब भारत छोड़ो आंदोलन का शंखनाद हुआ था तो तय हुआ कि तिरंगा जुलूस निकालकर अंग्रेजी हुकूमत का विरोध किया जाए। इसपर जिला स्कूल से छात्रों की टोली हाथ में तिरंगा लेकर निकली मुजफ्फरपुर शहर में निकली थी। जुलूस में चल रहे छात्रों ने अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा लगाया। फिर, नारा लगाते हुए छात्रों का जुलूस बढ़ने लगा। जुलूस शहर के हर एक चौक-चौराहे से गुजर रही थी। उस समय हर चौक चौराहे पर पुलिस तैनात की गई थी। लेकिन, जैसे ही कल्याणी चौक पर जब पहुंचे तो वहां घुड़सवार पुलिस मौजूद थी।छात्रों का जुलूस देखकर वह हमारी टोली की ओर लपकी। उक्त बातें बताते हुए 85 वर्षीय पूर्व राज्यसभा सदस्य रजनीरंजन साहू ने कही। उन्होंने बताया कि वर्ष 1942 में महात्मा गांधी के नेतृत्व वाले भारत छोड़ो आंदोलन का देशभर में असर था। कहते हैं कि जब भारत छोड़ो आंदोलन का शंखनाद हुआ तो वह जिला स्कूल के छात्र थे। उस समय तय हुआ कि तिरंगा जुलूस निकालकर अंग्रेजी हुकूमत का विरोध किया जाए। फिर, जिला स्कूल से छात्रों की टोली हाथ में तिरंगा लेकर शहर की ओर निकली।

‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ का नारा लगाते हुए शहर के विभिन्न चौक-चौराहे से कारवां गुजर रहा था। लेकिन, जैसे ही कल्याणी चौक पर पहुंचे तो वहां मौजूद घुड़सवार पुलिस जुलूस की ओर लपकी। पुलिस के लपकते ही सभी छात्र पुलिस विरोधी नारे लगाते हुए अलग-अलग गली से निकलने लगे। विरोध जारी रहा और आखिरकार आजादी मिली। उन्होंने बताया कि इस आंदोलन में महान स्वतंत्रता सेनानी ध्वाजा प्रसाद साहू, रामदयाल बाबू, मथुरा बाबू, बाबू लंगट सिंह, लक्ष्मी बाबू जैसे महापुरुषों का नेतृत्व भी युवाओं को मिला था।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments