Sunday, September 26, 2021
Homeटॉप न्यूज़सुपर साइक्लोन अम्फान : 21 साल बाद सबसे तेज तूफान: शाम 4...

सुपर साइक्लोन अम्फान : 21 साल बाद सबसे तेज तूफान: शाम 4 बजे सुंदरबन के पास तट से टकराएगा चक्रवात, 185 किमी की रफ्तार से हवाएं चलेगीं

भुवनेश्वर/कोलकाता. चक्रवात अम्फान अत्यंत तेज तूफान में बदल गया है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में तेज बारिश हो रही है। मौसम विभाग के मुताबिक, अम्फान शाम 4 बजे सुंदरबन के पास (पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया के बीच) 155 से 165 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तट से टकराएगा। टकराने के दौरान तटीय क्षेत्रों में 165-185 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी।

सवाल-जवाब में समझें- तूफान और राहत उपाय

कितना बड़ा तूफान है?

देश में 21 साल के बाद कोई सुपर साइक्लोन आया है। 1999 में एक चक्रवात ओडिशा के तट से टकराया था। उसे साइक्लोन ओ5 बी या पारादीप साइक्लोन का नाम दिया गया था।

कहां आया और कहां टकराएगा?

बंगाल की खाड़ी में। पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हटिया के बीच कहीं टकराएगा। ये इलाका विश्व विरासत सूची में शामिल सुंदरबन के पास है।

तूफान से ओडिशा और बंगाल में कितने जिले प्रभावित हैं?

ओडिशा के 9 जिले पुरी, गंजाम, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रापाड़ा, जाजपुर, गंजाम, भद्रक और बालासोर प्रभावित हैं। पश्चिम बंगाल के तीन तटीय जिले पूर्वी मिदनापुर, 24 दक्षिण और उत्तरी परगना के साथ ही हावड़ा, हुगली, पश्चिमी मिदनापुर और कोलकाता पर इसका असर नजर आएगा।

कितने लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया?

बंगाल में करीब 3 लाख और ओडिशा में 1.37 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है?

बचाव के क्या इंतजाम किए गए है?

नेशनल डिजास्टर रिस्पॉन्स टीम यानी एनडीआरएफ की 41 टीमों की तैनाती की गई है। हर टीम में 45 होते हैं। दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर में नेवी के गोताखोर तैनात किए गए हैं।

क्या स्पेशल ट्रेनों और उड़ानों पर असर पड़ा?

हां। बुधवार को चलने वाली हावड़ा-नई दिल्ली स्पेशल एसी एक्सप्रेस रद्द कर दी गई। गुरुवार को चलने वाली नई दिल्ली-हावड़ा स्पेशल भी रद्द है। कोलकाता एयरपोर्ट कल सुबह 5 बजे तक बंद कर दिया गया है।

तूफान से निपटने के लिए नेवी ने क्या इंतजाम किए?

पश्चिम बंगाल और ओडिशा में 20 जैमिनी बोट के साथ रेस्क्यू और मेडिकल टीम को तैयार रखा है। विशाखापट्टनम में आईएनएस देगा और अरकोणम में आईएनएस रजाली में नेवल एयरक्राफ्ट को किसी भी परिस्थिति में तैयार रहने को कहा है। पूर्वी नेवल कमांड ने कहा है कि हम साइक्लोन के दौरान जरूरी मानवीय मदद देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। राहत कार्यों के लिए नौसेना के जहाज स्टैंडबाय पर हैं। यह प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को निकालने, सामान पहुंचाने और जरूरी मेडिकल सहायता देने के काम करेंगे।

हवा की रफ्तार तेज

पश्चिम बंगाल के दीघा में मंगलवार को तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। वहीं, कोलकाता में भी तेज बारिश और हवाएं चलीं। बुधवार को पारादीप में हवा की रफ्तार 102 किमी प्रति घंटा, चांदबाली में 74 किमी प्रति घंटा, भुवनेश्वर में 37 किमी प्रति घंटा, बालासोर में 61 किमी. प्रति घंटा और पुरी में 61 किमी प्रति घंटा तक पहुंच गई।

ममता ने शाह और पटनायक से बात की

इलाके खाली करने के लिए टॉवर सायरन भी बजाए गए। तूफान के हालात पर गृह मंत्री अमित शाह ने ममता और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से बात की। उन्होंने दोनों राज्यों को केंद्र की ओर से पूरी मदद देने का भरोसा दिलाया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments