Tuesday, September 28, 2021
Homeचंडीगढ़चंडीगढ़ से ऑस्ट्रेलिया कोकीन के पैकेट कोरियर करने आए युवक चेन्नई में...

चंडीगढ़ से ऑस्ट्रेलिया कोकीन के पैकेट कोरियर करने आए युवक चेन्नई में किराए के कमरे में पैक करते थे नशे को

शहर की पुलिस ने 100 करोड़ की कोकीन की खेप पकड़ने के मामले में चेन्नई से दो और आरोपियों को पकड़ कर लाया गया है जिन्हें आज अदालत में पेश किया जाएगा। अदालत में पेश करने के बाद रिमांड मिलने पर पुलिस इन आरोपियों से इस नशा तस्करी के मामले में जानकारी लेगी। पुलिस के अलावा देश की कई एजेंसियां भी इस मामले को लेकर जानकारी लेगी। पिछले दिनों एक नशा तस्कर को पुलिस ने 100 करोड़ की कोकीन के साथ पकड़ा था जिसे शहर की एक कोरियर कंपनी से ऑस्ट्रेलिया भेजा जाना था।

दो आरोपियों को चेन्नई से पकड़ कर लाई पुलिस, आज अदालत में पेश किए जाएंगे

क्रोकरी में छिपाई थी कोकीन

इंडस्ट्री एरिया फेज-2 स्थित एक्सल वर्ल्ड वाइड कोरियर कंपनी से क्रोकरी के सामान के बीच ऑस्ट्रेलिया में 10 किलो 30 ग्राम कोकीन की खेप पहुंचने वाली थी। इस मामले में चंडीगढ़ पुलिस कोकीन सप्लाई करने वाले मुख्य दो आरोपियों को चेन्नई से पकड़ लाई है।आरोपियों की पहचान मास्टर माइंड 28 साल के एन जफ़र शरीफ निवासी ट्रिपलीकेन चेन्नई तमिलनाडु और उसके साथी 41 साल के विजय कुमार निवासी अन्ना नगर पमल चेन्नई के रूप में हुई है। इनका पहला साथी चेन्नई निवासी एस अशफाक रहमान को पुलिस ने 13 मई दोपहर को पकड़ने में सफलता हासिल की थी।

इसकी निशानदेही पर ही अब सेक्टर-31 थाना पुलिस चेन्नई से उक्त दोनों आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर आई है।बुधवार बाद दोपहर ही टीम चंडीगढ़ पहुंची है और आज दोनों आरोपियों को डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा। पूछताछ के दौरान इस कोकीन खेप के कई इंटरनेशनल कनेक्शन खुलने की संभावना हैं। इसको लेकर अब मात्र चंडीगढ़ पुलिस ही नहीं बल्कि नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो टीम, काउंटर इंटेलिजेंस की स्पेशल टीम और स्टेट टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) पंजाब टीम भी आरोपियों से पूछताछ करने व मामले को इन्वेस्टिगेशन कर रही है।

यह भी पता लगाएगी पुलिस सैंकडों किलोमीटर दूर चंडीगढ़ को ही क्याें चुना आरोपियों ने

सबसे अहम सवाल यह है कि आरोपियों ने ऑस्ट्रेलिया में खेप पहुंचाने के लिए देश के अन्य हिस्सों को छोड़कर मात्र चंडीगढ़ को ही क्यों चुना? इस सवाल का जवाब पुलिस रिमांड के दौरान मिल जाएगा। क्योंकि यदि ऑस्ट्रेलिया कोकीन किसी कोरियर कंपनी के माध्यम से पहुंचानी होती तो आरोपी चेन्नई की किसी भी कोरियर कंपनी को चुन सकते थे।

आरोपी अपने साथी अशफाक अरमान को पहले चंडीगढ़ भेजते थे जो यहां पर किराए पर रहकर कोरियर कंपनी तलाशता है और फिर रेल के माध्यम से चेन्नई से चंडीगढ़ पहुंचे डिब्बों में कोकीन छुपाकर यहां की कोरियर कंपनी से ऑस्ट्रेलिया भेजता था। सबसे बड़ी बात है कि करोड़ों की हेरोइन पिछले महीने भी चेन्नई से चंडीगढ़ रेल से पहुंची। क्या एक जगह से दूसरी जगह जाने वाला सामान को कोई चैक नहीं करता। यह अपने आप में सबसे बड़ा सवाल है।

मेडिकेटेड सामान के नीचे 6 डिब्बों में भेजते थे कोकीन

एसएचओ सेक्टर-31 इंस्पेक्टर नरेंद्र पटियाल ने बताया कि अभी तक की जांच में सामने आया है कि आरोपी विजय और जफर ने चेन्नई में एक किराए का कमरा लिया हुआ था। इसी कमरे में मास्टर माइंड अपने साथियों के साथ मिलकर ऑस्ट्रेलिया पहुंचाई जाने वाली कोकीन की पैंकिंग करता था। 13 मई को पकड़ी करीब 10 किलो कोकीन के अतिरिक्त इससे ठीक 22 दिन पहले भी एक खेप ऑस्ट्रेलिया में इनके साथी टॉमी सागर को पहुंच चुकी है। यह खेप 6 डिब्बे जिनमें ऊपर मेडिकेटेड सामान था और उनके नीचे कोकीन के पैकेट छुपाए हुए थे। चंडीगढ़ स्थित फेडेक्स कोरियर कंपनी के माध्यम से पहुंचाई गई थी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments