Friday, September 24, 2021
Homeकोरोना अपडेटराजस्थान में संक्रमित केसों में आने लगी कमी:24 घंटे में 17,481 लोग...

राजस्थान में संक्रमित केसों में आने लगी कमी:24 घंटे में 17,481 लोग रिकवर हुए, जबकि 13,565 नए पॉजिटिव मिले

राजस्थान में कोरोना मरीजों की संख्या में पिछले तीन दिन से लगातार कमी आ रही है। पिछले 24 घंटे में 13,565 नए केस मिले हैं, जबकि 149 लोगों की मौत हुई। खास बात ये रही कि आज चार जिलों में पॉजिटिव केसों की संख्या 100 से कम रही। वहीं अच्छी खबर ये है कि रिकवर मरीजों की संख्या पॉजिटिव केसों की संख्या से ज्यादा है। शनिवार को कुल 17,481 लोग रिकवर हुए हैं। इधर राज्य सरकार ने दूसरी लहर में मचे कोहराम को देखते हुए तीसरी लहर से बचने की अभी से तैयारियां शुरू कर दी है। इसके लिए सरकार ने विशेषज्ञों की एक कमेटी बनाई है, जो थर्ड वेव से निपटने को लेकर जल्द ही सरकार को सुझाव देगी।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से जारी रिपोर्ट देखें तो जो मरीज आए हैं, वह 20 अप्रैल के बाद आए मरीजों में सबसे कम हैं। 20 अप्रैल को 12,201 पॉजिटिव मिले थे, जिसके बाद मरीजों की संख्या 14 हजार से ज्यादा ही आई है। राज्य में शनिवार को सबसे ज्यादा 2605 नए मरीज जयपुर से आए हैं, जबकि इससे ज्यादा 4,456 मरीज जयपुर में रिकवर भी हुए हैं। हालांकि 41 मरीजों की इस बीमारी के कारण जान चली गई। जयपुर में आज रिकवर मरीजों की संख्या ज्यादा होने के कारण यहां एक्टिव केस भी 50 हजार से कम हो गए हैं।

4 जिलों में 100 से कम मरीज, जबकि 4 में रिकवर की संख्या एक हजार से ज्यादा

लंबे अंतराल के बाद राज्य में 4 जिलों में कोरोना संक्रमितों की संख्या 100 से भी कम रही है। सबसे कम 28 केस धौलपुर में मिले। इसके अलावा 37 जालौर, 87 प्रतापगढ़ और 93 पॉजिटिव केस टोंक में मिले। वहीं दूसरी तरफ 4 ऐसे जिले भी रहे जहां शनिवार को रिकवर मरीजों की संख्या एक हजार से ऊपर रही। जयपुर के अलावा जोधपुर में 2,180, जैसलमेर में 1,457 और हनुमानगढ़ में 1,027 मरीज रिकवर हुए हैं। इनके अलावा अलवर, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़, सिरोही और उदयपुर ऐसे जिले हैं। जहां रिकवर मरीजों की संख्या 500 से अधिक है।

राजस्थान में थर्ड वेव से बचने के लिए कमेटी देगी सुझाव

इधर सरकार ने एक विशेष कमेटी बनाई है। यही कमेटी म्यूकोरमाईकोसिस और थर्ड वेव पर अपने सुझाव देगी। कोरोना की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में मरीज क्रिटिकल केस में भर्ती हुए, जिन्हें स्टेरॉयड दिए गए। इनमें कई ऐसे मरीज हैं, जो शुगर या दूसरे बीमारी से संक्रमित हैं। ऐसे मरीजों में अब म्यूकोरमाईकोसिस (ब्लैक फंगस) की शिकायत तेजी से बढ़ने लगी है। ऐसे में इस बीमारी से कैसे निपटा जाए, इसको लेकर विशेषज्ञों की टीम अपना व्यू सरकार को देगी। इस कमेटी SMS अस्पताल के प्रिंसिपल डॉ. सुधीर भंडारी, डॉ. राम बाबू शर्मा, डॉ. लाखन पोसवाल, डॉ. वीरेंद सिंह, डॉ. नीलम डोगरा और डॉ. सतीश जैन को शामिल किया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments