Thursday, September 23, 2021
Homeहेल्थमाइग्रेन पेन से राहत दिलाने में काफी हद तक फायदेमंद हैं ये...

माइग्रेन पेन से राहत दिलाने में काफी हद तक फायदेमंद हैं ये 2 प्राणायाम

माइग्रेन से पीड़ित व्यक्ति जानता है कि यह कितनी दुर्बल करने वाली स्थिति है। कुछ ऐसे ट्रिगर्स हैं जो माइग्रेन को ट्रिगर करते हैं, यह बिना किसी चेतावनी के आ सकता है। कुछ लोग संवेदी चेतावनियों का अनुभव करते हैं जैसे प्रकाश की चमक, हाथ-पैर में झनझनाहट, उलटी, प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता में वृद्धि। अन्य लक्षणों में ठंड लगना, पसीना आना, तापमान में बदलाव, पेट में दर्द और दस्त शामिल हैं।

योग के नियमित अभ्यास से नींद अच्छी आती है जिससे शरीर और दिमाग को आराम मिलता है। कोशिश करें कि खाना न छोड़ें धूम्रपान शराब का सेवन न करें और खुद को हाइड्रेट रखें। कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो सिरदर्द को बढ़ाते हैं।

पता करें कि क्या आपको कोई एलर्जी है, क्योंकि तेज गंध जैसे परफ्यूम इत्यादि भी माइग्रेन को ट्रिगर करता हैं। बहुत से लोग टिमटिमाती या तेज रोशनी, तेज आवाज और यहां तक कि तापमान में बदलाव से भी प्रभावित होते हैं। माइग्रेन से पीड़ित महिलाओं में मासिक धर्म चक्र में उतार-चढ़ाव, गर्भनिरोधक गोलियां या रजोनिवृत्ति जैसे हार्मोनल ट्रिगर होते हैं। हालांकि यह जानना अच्छा है कि हमें किससे दूर रहना चाहिए, दुर्भाग्य से, ट्रिगर हमेशा माइग्रेन का कारण नहीं बनते हैं और ट्रिगर्स से बचना हमेशा माइग्रेन को नहीं रोकता है। इसलिए कुछ तरकीबों और तकनीकों को जानना उपयोगी है जो माइग्रेन के दौरान त्वरित राहत प्रदान कर सकती हैं। माइग्रेन को नियंत्रित और प्रबंधित करने के लिए योग में कुछ बहुत ही सरल और प्रभावी तरीके हैं।

jagran

भस्त्रिका प्राणायाम

• किसी भी आरामदायक आसन में बैठें (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन)

• पीठ को सीधा करें और आंखें बंद करें।

• हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें (प्राप्ति मुद्रा में)

• श्वास लें और फेफड़ों को हवा से भरें।

• पूरी तरह से सांस छोड़ें।

• सांस लेना और छोड़ना 1:1 के अनुपात में किया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि 6 काउंट के लिए सांस लेते हैं, तो सांस छोड़ने के लिए 6 काउंट्स लेने चाहिए।

jagran

ब्रह्मरी प्राणायाम

• किसी भी आरामदायक आसन में बैठें (जैसे सुखासन, अर्धपद्मासन या पद्मासन)

• पीठ को सीधा करें और आँखें बंद करें

• हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें (प्राप्ति मुद्रा में)

• अंगूठे को ‘ट्रैगस’ पर रखें, बाहरी फ्लैप कान पर।

• तर्जनी को माथे पर रखें; मध्यमा उंगली मेडियल कैन्थस पर और अनामिका नथुने के कोने पर है

• श्वास लें और फेफड़ों को हवा से भरें।

• जैसे ही हम सांस छोड़ते हैं, मधुमक्खी की तरह धीरे-धीरे एक भिनभिनाहट की आवाज़ करें, यानी,

• मुंह पूरे समय बंद रखें और महसूस करें कि ध्वनि का कंपन पूरे शरीर में फैल रहा है।

इस श्वास तकनीक का अभ्यास दिन में पांच मिनट के लिए शुरू कर सकते हैं और धीरे-धीरे इसे समय के साथ बढ़ा सकते हैं।

योग हमें तनाव मुक्त रहने में मदद कर सकता है और माइग्रेन की स्थिति को ठीक करने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है। शारीरिक या भावनात्मक तनाव, चिंता, अवसाद और किसी भी प्रकार की उत्तेजना भी माइग्रेन के दौरे का कारण बन सकती है। योग के नियमित अभ्यास से नींद नियमित होती है जिससे शरीर और दिमाग को आराम मिलता है और हर दिन तरोताजा हो जाता है। कोशिश करें कि खाना न छोड़ें, धूम्रपान, शराब का सेवन न करें और खुद को हाइड्रेट रखें। कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो सिरदर्द को बढ़ाते हैं और उन्हें आहार से समाप्त कर देना चाहिए; इनमें चॉकलेट, नट्स, पीनट बटर, एवोकैडो, केला, साइट्रस, प्याज, डेयरी उत्पाद और किण्वित या मसालेदार खाद्य पदार्थ शामिल हैं

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments