Saturday, September 18, 2021
Homeहेल्थभूख न लगने के ये हो सकते हैं लक्षण, इन आसान उपायों...

भूख न लगने के ये हो सकते हैं लक्षण, इन आसान उपायों से बढ़ा सकते हैं भूख

शरीर का हर संकेत बहुत अहम होता है। इसमें भूख न लगना भी शामिल है। यूं तो भूख न लगना एक बहुत सामान्य लक्षण है, लेकिन यह किडनी फेल होने से लेकर कैंसर तक के संकेत देता है।  एम्स के डॉ. केएम नाधीर के अनुसार, भूख न लगने या कुछ भी खाने की इच्छा नहीं होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें कब्ज, पेट में वायरस, पाचन संबंधी रोग, गलत तरह का खानपान, गलत समय पर खाने-पीने की आदत शामिल हैं। लंबे समय तक भूख न लगने की स्थिति को डॉक्टरी भाषा में एनोरेक्सिया कहा जाता है। इसके मेडिकल या मनोवैज्ञानिक कारण भी हो सकते हैं।

भूख न लगने के संकेत

खाने के प्रति उत्साह की कमी
खुराक कम होना यानी पेट सामान्य से जल्दी भर जाना
खाते समय थकान महसूस होना, खाना आधा छोड़कर उठ जाना
मनपसंद चीजों को भी नहीं खाना
चबाने और निगलने में परेशानी
खाते समय उबकाई आना

आमतौर पर भूख न लगने की समस्या शरीर अपने आप ठीक कर लेता है। जो लोग घर या ऑफिस में लंबे समय तक बैठे रहते हैं या शारीरिक रूप से कम सक्रिय रहते हैं, उन्हें अमूमन भूख कम लगती है। ऐसे लोग जिस दिन थोड़ा पसीना बहा लेते हैं, उन्हें तेज भूख लगती है। यह शरीर का सिस्टम करता है, लेकिन लंबे समय से भूख नहीं लग रही है और शरीर का वजन कम हो रहा है तो डॉक्टर से जरूर सम्पर्क करें।

इसलिए बहुत जरूरी है भूख पर ध्यान देना
भूख में अचानक या धीरे-धीरे कमी होना कई संकेत देता है। इसके  पीछे तनाव भी हो सकता है। यह निमोनिया, हेपेटाइटिस, लीवर में सूजन या जलन, एड्स, किडनी कैंसर का लक्षण हो सकता है। भूख की कमी कई तरह के पाचन रोग की ओर इशारा करती है। जैसे कोलाइटिस, कोलन कैंसर, क्रोन रोग या सीलिएक रोग।

भूख बढ़ाने के लिए करें ये उपाय
सबसे जरूरी है रोज व्यायाम और अनुशासित जीवनशैली। व्यायाम करने वालों को कभी भूख की कमी नहीं होती। खाना खाने का वक्त और मात्रा निर्धारित करें। ठीक से पालन करने पर शरीर इतना आदी तो जाता है कि वक्त होने पर खुद ही भूख के संकेत देने लगता है।
कहते हैं, खाना पहले आंखों से खाया जाता है। यानी डिश की सजावट उसे खाने के लिए प्रेरित करती है। इसलिए थाली को सजाकर पेश करें। तरह-तरह की चीजें शामिल कर उसको रंग-बिरंगी बनाएं।
नरम चीजें खाएं। जैसे – खिचड़ी, हलवा, दही, आइसक्रीम, जिन्हें ज्यादा चबाना नहीं पड़ता या बिना चबाए खाया जा सकता है। जो लोग गले की समस्या के कारण नहीं कुछ नहीं खा पाते हैं, वे मिनरल वाटर या नींबू पानी की मदद लें।
थाली छोटी रखें। कई लोग बड़ी थाली और ढेर सारे व्यंजन देखकर सहम जाते हैं।
भूख बढ़ाने वाली चीजों का सेवन करें जैसे – सेब का ज्यूस, करौंदे का रस, मूली. हरा धनिया, अजवाइन और काला नमक, इलायची, इमली।
दिमाग का हाइपोथैलेमस वाला हिस्सा ही भूख को नियंत्रित करता है। इस हिस्से को जागृत बनाए रखने के लिए प्राणायाम करें।
यदि इतना करने के बाद भी भूख नहीं लगती है तो डॉक्टर को दिखाएं। बाजार में भूख बढ़ाने का दावा करने वाले कई टॉनिक उपलब्ध हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह पर ही इन्हें लें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments