Tuesday, September 28, 2021
Homeविश्वजेलों में आजाद हजारों तालिबानी अफगानिस्तान की सीमा से पाकिस्तान में घुसे

जेलों में आजाद हजारों तालिबानी अफगानिस्तान की सीमा से पाकिस्तान में घुसे

अफगानिस्तान में इस सप्ताह के शुरू में तालिबान के कब्जा करने के बाद देश के दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में स्पिन बोल्डक/चमन सीमा पार कर हजारों अफगानी पाकिस्तान में प्रवेश कर चुके हैं। इसमें चिकित्सा की मांग करने वाले मरीज और जेल से मुक्त हुए तालिबानी हैं। मंगलवार को अफगान यात्रियों और अधिकारियों ने बताया कि वैध पहचान प्रमाण पत्र या पाकिस्तान में पंजीकृत अफगान शरणार्थी होने का प्रमाण रखने वाले सभी अफगानों के लिए सीमा खुली रही।

अफगानिस्तान में इस सप्ताह के शुरू में तालिबान के कब्जा करने के बाद देश के दक्षिण-पूर्व क्षेत्र में स्पिन बोल्डक/चमन सीमा पार कर हजारों अफगानी पाकिस्तान में प्रवेश कर चुके हैं। इसमें चिकित्सा की मांग करने वाले मरीज और जेल से मुक्त हुए तालिबानी हैं।

कई जेलों से आजाद हुए तालिबान लड़ाके हैं, तो कई इलाज के लिए जा रहे हैं पाक

पाकिस्तान के चमन में अफगान यात्रियों के लिए एक नया मार्ग स्थापित किया गया है, जिसमें हजारों लोगों की भीड़ है। एक कांटेदार तार के बाड़ से अंतर्राष्ट्रीय सीमा से करीब एक किलोमीटर से भी कम दूरी स्थित परिवहन केंद्र पर ये लोग जमा हैं, जिन्हें प्रशासन द्वारा निर्देश दिया जा रहा है। अफगानिस्तान के सीमा क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी की शिकायत करते हुए कई लोगों ने बुजुर्ग रिश्तेदारों या अन्य लोगों के साथ यात्रा की, जिन्हें तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता है।

अब अफगानिस्तान में कोई युद्ध नहीं

सीमा पर एकत्र हुए लोगों में से कई लोगों ने बताया कि वे तालिबान द्वारा अफगान जेलों से रिहा किए गए रिश्तेदारों से मिलने के लिए वहां हैं। जैसे ही रिश्तेदारों ने लौटने वाले लड़ाकों को माला पहनाई, वहां तालिबान के सफेद रंग के झंडे हवा में लहरा रहे थे। मंगलवार को पाकिस्तान लौटे अफगान तालिबान के लड़ाके सनाउल्लाह ने कहा कि अब अफगानिस्तान में इस्लामिक अमीरात सरकार में है और अब कोई युद्ध नहीं है।

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बहुत बेहतर

चमन से लगभग 90 किमी दक्षिण-पूर्व में दक्षिण-पश्चिमी पाकिस्तानी शहर क्वेटा के रहने वाले सनाउल्लाह ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बहुत बेहतर है। रिपोर्ट ने कहा गया कि उन्हें 2013 में अफगान सुरक्षा बलों ने पकड़ लिया था और कुख्यात बगराम जेल में कैद कर दिया गया था, उसी साल अमेरिकी सेना ने इसे अफगान सरकार को सौंप दिया था।

अफगान तालिबान लड़ाकों ने जुलाई में जेल और उसके संलग्न एयरबेस पर कब्जा कर लिया था, जब अमेरिकी सेना वहां से हट गई थी जो अफगानिस्तान में अमेरिका और नाटो सैन्य उपस्थिति का केंद्र था। सनाउल्लाह ने कहा कि तालिबान आए और हमें जेल से मुक्त कराया। वहां करीब 7,000 कैदी थे और हमें लगभग दो घंटे में तालिबान ने मुक्त कर दिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments