Sunday, September 26, 2021
Homeमहाराष्ट्रकोरोना मरीजों की मदद के लिए नागपुर की महिला डॉक्टर ने तोड़...

कोरोना मरीजों की मदद के लिए नागपुर की महिला डॉक्टर ने तोड़ दी अपनी शादी, कहा-मुझे नहीं देखा जाता मरीजों का दर्द

महाराष्ट्र के नागपुर में एक महिला डॉक्टर ने अपने कर्त्तव्य और मरीजों की सेवा के लिए अपनी शादी तक तोड़ दी। नागपुर के सेंट्रल इंडिया कार्डिओलॉजी हॉस्पिटल में बतौर फिजिशियन काम कर रही अपूर्वा मंगलगिरी की शादी 26 अप्रैल को होने वाली थी। संक्रमण के बढ़ते खतरे और अपने फर्ज को देखते हुए अपूर्वा ने शादी को आगे बढ़ाने के लिए कहा, लेकिन लड़के वाले नहीं मान रहे थे। इसके बाद अपूर्व ने शादी करने से ही इनकार कर दिया। उनका कहना है कि वर्तमान में कोरोना मरीजों की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है। अन्य के लिए पूरी लाइफ पड़ी हुई है।

अपूर्वा नागपुर की रहने वाली हैं और यहां के सेंट्रल इंडिया कार्डिओलॉजी हॉस्पिटल में बतौर फिजिशियन काम कर रही हैं।

पिछले साल हुआ था पिता का निधन

अपूर्वा ने बताया कि कोरोना की वजह से ही पिछले साल सितंबर में उनके पिता का निधन हो गया था। उन्होंने बताया,’मैं ऐसे परिवार की बेबसी और दर्द को समझती हूं। मेरे पास हर दिन जरूरतमंदों के फोन आते हैं, वे बेड से लेकर ऑक्सीजन तक की मदद मांगते हैं।’

अपूर्वा बताती हैं, “एक consultant physician होने के नाते, मेरा पास दिन में कई फोन कॉल आते हैं। लोग निराश और गुस्से से भरे मुझ से बात करते हैं। एक बेड और एक ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए वे मेरे सामने हाथ जोड़ते हैं। कई बार मैं सिर्फ असहाय होकर उनकी बातें सुनती हूं।’

वे दिन में 100 से ज्यादा लोगों की मदद फोन पर कर रही हैं।
वे दिन में 100 से ज्यादा लोगों की मदद फोन पर कर रही हैं।

 

वर्तमान समय के हिसाब से टफ था डिसीजन

अपूर्वा बताती हैं कि कोरोना की दूसरी लहर में हॉस्पिटल में डॉक्टर्स की भारी कमी है। मैं अपना हर मिनट सिर्फ कोविड मरीजों की मदद में देना चाहती हैं। शादी तोड़ने के फैसले पर अपूर्वा ने कहा-यह फैसला मुश्किल था, हो सकता है भविष्य में यह गलत भी साबित हो, लेकिन वर्तमान समय के हिसाब से मैंने टफ डिसीजन लिया है।

‘मैं नहीं चाहती कि मेरी शादी के अगले दिन 20-25 लोग संक्रमित हो जाए’

अपूर्वा ने आगे बताया,’इस महामारी के बीच जहां हम अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाइयों, वेंटिलेटर, डॉक्टरों और नर्सों की कमी से जूझ रहे हैं। ऐसे में मैं नहीं चाहती थी कि मेरी शादी में 20-25 लोग शामिल हों और अगले दिन वे संक्रिमत हो जाए।”

अपूर्वा ने शादी के 10 दिन पहले तोड़ी अपनी शादी।
अपूर्वा ने शादी के 10 दिन पहले तोड़ी अपनी शादी।

 

अपूर्वा के इस फैसले के साथ परिवार खड़ा हुआ

अपूर्वा के इस फैसले के साथ उनका पूरा परिवार खड़ा है। परिवार बेटी के इस फैसले पर गर्व कर रहा है। अपूर्वा ने बताया,’शादी से 10 दिन पहले, मैंने पहले शादी करने का विचार छोड़ दिया था। मेरे मरीजों को मेरी जरूरत थी और मेरे दिमाग में सिर्फ यही बात चल रही थी। जब मैंने घर पर इस बारे में चर्चा की, तो मेरी मां और मेरी बहन ने कहा कि वे मेरी खुशी के साथ खड़े हैं।’ अगर मैं कोविड मरीजों की सेवा करने में खुश हूं, तो वे भी यही चाहते हैं।

अपूर्वा ने बताया कि उनके इस फैसले से पूरा परिवार उनके साथ खड़ा है।
अपूर्वा ने बताया कि उनके इस फैसले से पूरा परिवार उनके साथ खड़ा है।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments