यूपी : सीएम योगी ने महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री को किया नमन

0
51

 राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 153 जयंती तथा देश के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 118वीं जयंती पर देश इन महान विभूतियों को नमन कर रहा है।लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी तथा जय जवान, जय किसानका नारा बुलंद करने वाले लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किया।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के हजरतगंज में जीपीओ पार्क प्रांगण में महात्मा गांधी की प्रतिमा पर उनको नमन करने के बाद हजरतगंज के ही खादी भवन में आयोजित कार्यक्रम में देश की आजादी में उनके योगदान पर प्रकाश डाला। सीएम योगी आदित्यनाथ ने लाल बहादुर शास्त्री भवन (एनेक्सी) में पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर पुष्प अपर्ण किया। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर आज सीएम योगी आदित्यनाथ ने जीपीओ पार्क में उनकी प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया। उनके साथ डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठकतथा कैबिनेट मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह  व एके शर्मा भी थे। विधायक आशुतोष टंडन के साथ लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने भी जीपीओ पार्क में बापू के प्रिय भजनों को सुना।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके बाद खादी भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में महात्मा गांधी के जीवन पर प्रकाश डाला। महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महात्मा गांधी जी को पूरा देश याद कर रहा है। बापू के चरणों में मेरा नमन है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने देश की आजादी में गांधी जी के योगदानों को याद करते हुए कहा कि आजादी दिलाने में बापू का अहम योगदान। उन्होने कहा कि गांधी जी ने स्वदेशी, स्वच्छता, ग्राम स्वराज मंत्रों को अपनाया। देश को आजादी बापू के नेतृत्व में मिली। बापू की प्रेरण हम सब को मार्गदर्शन देती है।

मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम के बाद लाल बहादुर शास्त्री भवन (एनेक्सी) पहुंचे। यहां पर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया। इसके बाद उनको नमन किया। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती है। देश उनके योगदान को कभी भी भुला नहीं सकता है।  श्रद्धेय शास्त्री जी ने भारत को आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ाने के लिए ‘जय जवान-जय किसान’ का नारा दिया। आजाद भारत के इतिहास में लाल बहादुर शास्त्री जी का स्मरण 1965 युद्ध के विजेता के रूप में पूरा देश करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here