उत्तरप्रदेश : गाजियाबाद में राकेश टिकैत से मिले संजय राउत

0
25

यूपी में विधानसभा चुनाव के तारीखों का एलान हो गया है। जिसके बाद से राजनीतिक पार्टियां वोट बैंक को मजबूत करने में लगी है। उत्तर प्रदेश में शिवसेना 50 से 100 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ेगी। चुनाव में पार्टी की क्या संभावनाएं हैं, इन्हें तलाशने के लिए मुंबई से वरिष्ठ नेता संजय राउत आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं। मुजफ्फरनगर में सर्कुलर रोड स्थित आवास पर पहुंचकर संजय राउत ने भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत से मुलाकात की है।

राकेश टिकैत बोले- यह औपचारिक मुलाकात

राकेश टिकैत ने इस मुलाकात को औपचारिक बताया। बावजूद सियासी गलियारों में इसे अनौपचारिक ही माना जा रहा है। राकेश टिकैत ने भी साफ कहा कि संजय राउत उनके मित्र हैं और औपचारिक तौर से ही उनसे मिलने आए हैं। मीडिया से बात करने से बचते हुए राकेश टिकैत व संजय राउत एक बंद कमरे में पहुंच गए। कयास लगाए जा रहे हैं कि शिवसेना नेता संजय राउत आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी प्रत्याशियों के लिए उनसे समर्थन मांग सकते हैं।

यह तस्वीर उस समय की है जब शिवसेना नेता संजय राउत ने मुंबई से गाजीपुर बॉर्डर पहुंचकर किसान आंदोलन को अपना समर्थन दिया था।

 

चुनाव लड़ना है तो किसानों का आर्शीवाद जरूरी

इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा, हमारी लड़ाई भाजपा से है। शिवसेना आम आदमी की पार्टी है। इस चुनाव में हम 50 से 100 सीटों पर बिना गठबंधन अपने प्रत्याशी उतारेंगे। उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत बड़े किसान नेता हैं। पश्चिमी यूपी में किसानों के मुद्दे प्रमुख हैं। इन मुद्दों पर टिकैत से बातचीत होगी। संजय राउत ने साफ कहा कि हमें यूपी में चुनाव लड़ना है तो किसानों का आर्शीवाद चाहिए।

गाजीपुर बॉर्डर भी आए थे राउत

बता दें कि किसान आंदोलन के वक्त संजय राउत मुंबई से गाजीपुर बॉर्डर पर आए थे। वह धरना दे रहे किसानों से मिले थे और उनकी मांगों को शिवसेना की तरफ से समर्थन भी दिया था। इस दौरान संजय राउत और राकेश टिकैत की मुलाकात हुई थी। किसान आंदोलन के बाद यह दूसरा मौका है जब संजय राउत, टिकैत से मिलने के लिए मुजफ्फरनगर पहुंच रहे हैं।

टिकैत की जयंत से हैं नजदीकियां

राकेश टिकैत प्रत्यक्ष रूप से किसी राजनीतिक दल के साथ नहीं हैं, लेकिन यह अपील जरूर कर रहे हैं कि वर्तमान सरकार को वोट न दें। टीवी चैनलों की चर्चाओं में भी उनसे चुनावी रणनीति पर क्या है जानने की खूब कोशिशें हुईं, लेकिन टिकैत ने अपने पत्ते नहीं खोले। हालांकि राकेश टिकैत की रालोद अध्यक्ष चौधरी जयंत सिंह से नजदीकियां हैं, यह बात कई मंच पर दिख चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here