Sunday, September 26, 2021
Homeमहाराष्ट्रमुंबई में लावारिस बुजुर्ग मरीज को वार्डबॉय ने सड़क पर फेंका, हॉस्पिटल...

मुंबई में लावारिस बुजुर्ग मरीज को वार्डबॉय ने सड़क पर फेंका, हॉस्पिटल ने जांच के बाद किया बर्खास्त

BMC के केईएम (KEM) हॉस्पिटल में इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। यहां एक लावारिस बुजुर्ग मरीज को हॉस्पिटल से बाहर निकाल कर वार्डबॉय ने सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया। उसकी यह अमानवीय हरकत स्थानीय मनसे नेता ने अपने मोबाइल फोन में कैद की और हॉस्पिटल प्रशासन की इसकी जानकारी दी। हॉस्पिटल प्रशासन ने भी इसमें फौरन जांच बैठाई और CCTV की जांच के बाद वार्डबॉय की करतूत का खुलासा हुआ। रविवार को हॉस्पिटल के डीन ने उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया।

हॉस्पिटल के बाहर सड़क किनारे पड़ा बुजुर्ग। वार्डबॉय उसे फेंक कर फरार होने की फिराक में था।

जानकारी के मुताबिक, यह घटना शुक्रवार रात 1.30 बजे हुई है। इस मामले के चश्मदीद और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के वार्ड अध्यक्ष मनीष राउल ने बताया कि करीब 65 वर्षीय बुजुर्ग को अजय नामक वार्डबॉय ने रात करीब 1.30 बजे उस गेट से निकाला जहां से शवों को निकाला जाता है। यह गेट शाम के बाद से बंद रहता है, लेकिन बीमारी से ग्रसित बुजुर्ग को उस गेट से चोरी से निकाल कर फुटपाथ पर फेंक दिया गया।

भीड़ के हंगामे के बाद हॉस्पिटल में ले गया वार्डबॉय

राउल ने आगे बताया,’जब हमारी नजर पड़ी और वार्डबॉय से पूछा तो पता चला कि बुजुर्ग 4-ए वार्ड में एडमिट था। डॉक्टर के कहने पर वार्डबॉय उसे फुटपाथ पर छोड़ने चला आया। जब लोगों की भीड़ इक्कठा हो गई और हल्ला होने लगा तो वार्डबॉय ने फिर से बुजुर्ग को स्ट्रेचर पर लिटाया और अस्पताल ले गया।’

हंगामे के बाद वार्डबॉय को बुजुर्ग को वापस हॉस्पिटल में ले जाना पड़ा।
हंगामे के बाद वार्डबॉय को बुजुर्ग को वापस हॉस्पिटल में ले जाना पड़ा।

 

मनसे नेता ने इसकी जानकारी हॉस्पिटल के डीन डॉ. हेमंत देशमुख को दी और इससे जुड़ा वीडियो भी सबूत के रूप में दिखाया। इसके बाद डीन ने मामले में जांच करवाई जिसमें वार्डबॉय दोषी निकला। CCTV फुटेज में भी वह बुजुर्ग को सड़क पर फेंकता हुआ नजर आ रहा था। रविवार को हॉस्पिटल प्रशासन की संस्तुति के बाद अजय को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया। इस घटना पर डॉ देशमुख ने कहा कि ऐसी हरकत बिलकुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

पहले भी सामने आए हैं लापरवाही के ऐसे मामले

KEM में लापरवाही का यह पहला मामला नहीं है। 28 नवंबर 2019 में एक बिल्ली अस्पताल के डिस्पोज़ल रूम से एक भ्रूण को बगल के कर्मचारी के घर मे जाकर खाती हुई पाई गई थी। जून 2019 में यहां दिल का इलाज कराने आए ढाई माह के मासूम प्रिंस की भी मौत झुलसने से हो गई थी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments