पश्चिम बंगाल : बीजेपी ने की ममता के खिलाफ बड़े आंदोलन की घोषणा

0
43

 स्कूल सेवा आयोग भर्ती घोटाला 55 करोड़ से अधिक की नकदी, सोना व विदेशी मुद्रा बरामदगी में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी को ईडी और मवेशी तस्करी मामले में सीबीआइ ने बीरभूम जिले के तृणमूल अध्यक्ष व राष्ट्रीय कार्यसमित के सदस्य अनुब्रत मंडल  को गिरफ्तार किया है।इन दोनों मामलों को लेकर भाजपा अब बड़े आंदोलन की तैयारी में है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार  ने शुक्रवार को अपने कार्यकाल का पहला बड़ा कार्यक्रम की घोषणा की है। उन्होंने सात सितंबर को नवान्न अभियान यानी राज्य सचिवालय मार्च की घोषणा की। शिक्षक भर्ती घोटाले में पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद से ही भाजपा में बड़े आंदोलन की मांग तेज हो गई थी।

पिछले दिनों पार्टी राज्य कमेटी हुई बैठक में सितंबर में बड़े आंदोलन का फैसला लिया गया था। सुकांत ने शुक्रवार को उस आंदोलन की घोषणा की। प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है जब सुकांत के नेतृत्व में बंगाल भाजपा किसी बड़े आंदोलन करने जा रही है।महानगर के धर्मतल्ला में पिछले कुछ दिनों से भाजपा लगातार विरोध-प्रदर्शन कर रही है। हालांकि, संसद में सत्र के कारण सुकांत एक दिन से ज्यादा नहीं आ सके थे। शुक्रवार को दिल्ली से लौटे सुकांत के साथ पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष भी प्रदर्शन में शामिल हुए। वहां, सुकांत ने कहा कि राज्य सरकार के बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के सबूत सामने आने के बाद इस सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस्तीफा दे देना चाहिए। इसी मांग को लेकर पूरे राज्य से पार्टी कार्यकर्ता और समर्थक सात सितंबर को कोलकाता आएंगे। पार्टी के सभी सांसदों और विधायकों को भी अगले कुछ हफ्तों इस आंदोलन को लेकर प्रचार करने का निर्देश दिया गया है। मजूमदार ने कहा कि 15 अगस्त देश का स्वतंत्रता दिवस है। गुरुवार को गायों का स्वतंत्रता दिवस था।तृणमूल नेता केवल चोरों को ट्राम और बसों में बाहर जाने से रोक रहे हैं। जब वे बाहर जाते हैं तो लोग उन्हें चोर कहते हैं। इस आंदोलन की घोषणा को लेकर तृणमूल के राज्यसभा सदस्य शांतनु सेन ने कहा कि भाजपा अब विभिन्न हिस्सों में बंट गई है। पहले वे तय करें कि यह सुकांत, दिलीप या सुवेंदु वाली भाजपा का आंदोलन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here