Monday, September 20, 2021
Homeहेल्थक्या होता 'Pelvic Pain', जानें पेडू दर्द का कारण और बचाव के...

क्या होता ‘Pelvic Pain’, जानें पेडू दर्द का कारण और बचाव के तरीके

पेट के निचले हिस्से को पेडू या पेल्विस कहा जाता है। इसमें पेट के निचले हिस्से की आंतें, मूत्राशय और अंडाशय शामिल होते हैं। पेडू के दर्द से मतलब इनमें में से किसी अंग या इनके आसपास की हड्डियों या मांसपेशियों में होने वाला दर्द है। महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान पेडू का दर्द आम बात है। देश में हर तीन में से एक महिला अपने जीवन के किसी न किसी स्तर पर इस दर्द (पेल्विक पैन) से पीड़ित होती है। कई बार यह दर्द थोड़ी देर में अपने आप चला जाता है, लेकिन यदि दर्द लंबे समय तक रहता है या बार-बार होता है तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

एम्स के डॉ. केएम नाधीर के अनुसार, पेडू का दर्द किसी एक स्थान पर हो सकता है या एक से दूसरे स्थान पर जा सकता है। इसकी शुरुआत पेट और जांघ के बीच दर्द से होती है। कुछ मामले में कूल्हों के आसपास भी पेडू का दर्द महसूस किया जाता है। महिलाओं में अंडाशय की गांठ के कारण पेडू का दर्द हो सकता है।

पेडू के दर्द के लक्षण-
-पेशाब में खून आना
-पेशाब करने में समस्या
-पेशाब में बदबू
-मासिक धर्म के दौरान ऐंठन या दर्द
-कब्ज या दस्त
-पेट फूलना या पेट में गैस होना
-बुखार

-क्यों खतरनाक है पेडू का दर्द
बार-बार होने वाले पेडू के दर्द को हल्के में नहीं लेना चाहिए। खासतौर पर यह महिलाओं में गंभीर बीमारी का कारण हो सकता है। कई महिलाओं के अंडाशय में गांठ होती है। इसके कारण पेडू में दर्द होता है। उम्र के साथ मांसपेशियां कमजोर होने पर महिलाओं को यह दर्द होता है।

पुरुषों में नसबंदी के बाद यह दर्द हो सकता है। प्रोस्टैटिस की सूजन के कारण पेडू का दर्द हो सकता है। इसी तरह प्रोस्टेट बढ़ने से मूत्र मार्ग पर दबाव बढ़ता है, नतीजन पेडू में दर्द होता है।

अधिकांश मामले में अपेंडिक्स, यूरिन इन्फेक्शन, गुर्दे का संक्रमण, किडनी स्टोन या यौन संक्रमण से जुड़ी बीमारी इसका कारण होते हैं। इसलिए सलाह दी जाती है कि पेडू के दर्द से दूर रहना है तो सुरक्षित यौन संबंध बनाएं। साथ की किडनी स्टोन से बचाव के लिए ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है।

ऐसे होता है पेडू के दर्द का इलाज-
पेडू के दर्द का सही कारण जानने के बाद ही इलाज तय होता है। इसके लिए सामान्य रूप से ब्लड और यूरिन टेस्ट करवाए जाते हैं। इसके अलवा प्रेग्नेंसी टेस्ट, अल्ट्रासाउंड, सीटी स्कैन, एमआरआई, एंडोस्कॉपी, लेप्रोस्कॉपी और पेडू का एक्सरे किया जाता है। आमतौर पर पेडू के दर्द के लक्षण दूर करने के लिए दवाएं दी जाती हैं। इनमें दर्द निवारक दवाएं, महिलाओं में हार्मोंन्स के लिए दवाएं, एंटीबायोटिक दवाएं, एंटीडिप्रेसेंट दवाएं शामिल हैं। दवा से इलाज संभव है। समस्या गंभीर होने पर सर्जरी भी की जाती है।  लंबे समय तक एक ही स्थान पर बैठे रहने से भी यह दर्द हो सकता है। दर्द होने पर आराम करने की सलाह दी जाती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments