Monday, September 27, 2021
Homeलाइफ स्टाइलक्या है 'मास्कने'? जानें इसके कारण और बचाव के तरीके

क्या है ‘मास्कने’? जानें इसके कारण और बचाव के तरीके

कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट जिस तेज़ी से दुनियाभर में फैल रहा है, उससे बचने के लिए सिर्फ वैक्सीन ही एक उपाय रह गई है। इसके साथ ही स्वास्थ्य अधिकारी और हेल्थ एक्सपर्ट्स कोविड से जुड़े प्रोटोकॉल को फॉलो करने पर दबाव दे रहे हैं। मास्क पहनना, शारीरिक दूरी बनाना, भीड़-भाड़ वाले इलाके में न जाना सबसे ज़रूरी हो गया है।

लंबे समय तक मास्क पहनने से दूसरी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं- जैसे कई लोग मास्कने से जूझ रहे हैं। जिन लोगों की त्वचा नाज़ुक है उन्हें मास्क लंबे समय तक पहनने से एक्ने या त्वचा से जुड़ी दूसरी समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

खासतौर पर जब तीसरी लहर का ख़तरा हम सभी के ऊपर मंडरा रहा है, ऐसे में मास्क पहनना बेहद ज़रूरी हो गया है। यहां तक कि सीडीसी ने भी अपनी गाइडलाइन्स में बदलाव करते हुए लोगों को हर वक्त मास्क पहनने की सलाह दी है, चाहे उन्हें वैक्सीन की दोनों डोज़ क्यों न लग गई हों।

हालांकि, लंबे समय तक मास्क पहनने से दूसरी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं- जैसे कई लोग ‘मास्कने’ से जूझ रहे हैं। जिन लोगों की त्वचा नाज़ुक है, उन्हें मास्क लंबे समय तक पहनने से एक्ने या त्वचा से जुड़ी दूसरी समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

बढ़ रही है ‘मास्कने’ की समस्या

‘मास्कने’, दो शब्दों को जोड़कर बना है, मास्क और एक्ने। मास्क को लंबे समय तक पहनने की वजह से त्वचा से जुड़ी कई तरह की दिक्कतें शुरू हो जाती हैं, जिससे न सिर्फ दानें बल्कि रेडनेस, खुजली और दर्दनाक पिंपल्स भी हो जाते हैं। मास्क की वजह से लोग त्वचा से जुड़ी इन दिक्कतों से जूझ रहे हैं:

एक्ने: एक्ने बंद रोमछिद्रों के कारण होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप मुंहासे और सफेद/ब्लैकहेड्स होते हैं।

रोज़ेशिया: यह एक ऐसी स्थिति है, जहां आपकी त्वचा में सूजन आ जाती है, जिससे रेडनेस हो जाती है।

फोलिकुलिटिस: फोलिकुलिटिस बालों के रोम का संक्रमण है जो दर्द और खुजली पैदा कर सकता है।

सम्पर्क से होने वाला चर्मरोग: सम्पर्क से होने वाला चर्मरोग तब होता है जब त्वचा उन सामग्रियों के संपर्क में आती है जिनसे उसे एलर्जी है।

मास्कने से कैसे बचाव करें?

किसी भी अन्य त्वचा की समस्या की तरह, मास्कने की रोकथाम और उपचार में कुछ कदम शामिल हैं। अपना स्किन केयर रुटीन फॉलो करने के साथ, आपको मास्क चुनते समय भी सावधानी बरतनी चाहिए। मास्क पहनना सबसे ज़रूरी है, लेकिन आपको साथ ही अपनी त्वचा को सांस लेने का समय देना चाहिए।

दिन में दो बार चेहरे को धोएं और मॉइश्चराइज़ करें

मास्क से होने वाली दिक्कतें बढ़ रही हैं, ऐसे में ज़रूरी है कि अगर आप किसी वजह से लंबे समय तक मास्क पहन रहे हैं, तो थोड़ी-थोड़ी देर में चेहरे को धोकर साफ करें और मास्क भी बदलें। चेहरा धोने के बाद मॉइश्चराइज़ करना न भूलें। इससे त्वचा के पोर्स बंद नहीं होंगे और एक्ने की समस्या नहीं होगी।

मास्क चुनने वक्त सावधानी बरतें

मास्क पहनना ज़रूरी है, लेकिन इसे खरीदते वक्त कुछ बातों का ख़्याल रखें। मास्क के मटीरियल पर ध्यान देना ज़रूरी है, क्योंकि इसी से आपको एक्ने की समस्या हो सकती है। नायलॉन और सिंथेटिक फाइबर से बने मास्क न पहनें। जिनकी त्वचा नाज़ुक है उन्हें कॉटन के मास्क पहनने चाहिए।

मास्क के साथ मेकअप न लगाएं

वैसे तो मास्क के साथ आपको मेकअप करने से बचना चाहिए, क्योंकि मेकअप और पसीना से त्वचा का सांस लेना और मुश्किल हो जाएगा। जिससे सूजन, जलन और रेडनेस बढ़ सकती है। अगर आपको मेकअप इस्तेमाल करना ही है, तो कम कैमिकल वाले मेकअप का उपयोग करें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments