Sunday, September 26, 2021
Homeराज्यगुजरातझपकी आई तो कार डिवाइडर तोड़ दूसरे लेन पर गई, ट्रक से...

झपकी आई तो कार डिवाइडर तोड़ दूसरे लेन पर गई, ट्रक से टक्कर, 3 की मौत

सौराष्ट्र से कोरोना संक्रमित मरीजों की सेवा कर कार से लौट रहे सूरत के वार्ड नंबर 14 मातावाड़ी के आम आदमी पार्टी उम्मीदवार अशोक गोदानी की बड़ौदा के पास सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। उनके साथ सेवा करने गए अन्य दो युवकों की भी मौत हो गई। लोगों की सेवा करने के दौरान अशोक गोदाणी संक्रमण से जूझ रहे मरीजों की अलग-अलग इलाकों में स्थित आइसोलेशन सेंटर में जाकर उनकी सेवा कर रहे थे।

कटर से कार का दरवाजा काटकर शव निकाले गए
  • कोरोना मरीजों की सेवा कर सौराष्ट्र से वापस सूरत लौट रहे थे सभी

जानकारी के मुताबिक शनिवार की भोर में 36 वर्षीय अशोक गोदाणी अपने साथी सरथाना में रहने वाले 27 वर्षीय संजय गोदाणी और 42 वर्षीय राजू गोंडलिया के साथ कार में सौराष्ट्र से सूरत आने के लिए निकले थे। तभी वड़ोदरा के पास नेशनल हाईवे पर कपूराई चौकड़ी के पास कार चला रहे अशोक गोदाणी स्टीयरिंग पर से अपना कंट्रोल खो देते है।

इसके बाद कार डिवाइडर फांदते हुए रॉन्ग साइड पर चली गई और दूसरी तरफ से तेजी से गुजर रहे ट्रक की कार से टक्कर हो गई। इसके बाद कार के अंदर मौजूद तीनों लोगों की मौत हो गई। घटना के बाद मौके पर पानीगेट पुलिस स्टेशन की टीम पहुंची, कार में फंसे तीनों लोगों के शव को बाहर निकाला।

2 दिन पहले ही सौराष्ट्र गए थे

अशोक गाेदाणी अपने दो दोस्तों के साथ 2 दिन पहले ही सौराष्ट्र की तरफ सेवा करने के लिए गए थे। तीनों राजुला जाफराबाद सेंटर पर अपनी सेवा प्रदान कर रहे थे। उन्होंने घर पर अपनी पत्नी से कहा था कि मैं सौराष्ट्र में सेवा करने के लिए जा रहा हूं और कल देर रात घर पर लौट आऊंगा।

सेवा का अवसर नहीं चूकना चाहते थे

आप नेता अजय जियानी ने बताया कि अशोक लगातार लोगों की सेवा करना चाहता था, माता वाड़ी इलाके में उसने लगातार लोगों के बीच जाकर उनके प्रश्नों का जवाब दे रहा था। इसके अलावा किसी को पारिवारिक तौर पर किसी भी प्रकार की कोई समस्या होती तो उसे भी समझाने के लिए अग्रसर रहता था। सेवा संस्था द्वारा शुरू की गई भागीरथ कार्य की बात सुनकर वह खुद ही तैयार हो गया। उसने कहा कि यह सेवा का अवसर मैं चूकना नहीं चाहता हूं और सौराष्ट्र जाकर सेवा कर रहे थे।

शहीदों का दर्जा देने की मांग भी उठी

सेवा संस्था के मुख्य कमेटी मेंबर महेश सवानी ने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा कि अशोक गोदाणी और उनके लोगों ने सेवा करते हुए जान गवाई हैं। उनके परिवार के साथ हैं उनके बच्चों के भरण पोषण और पढ़ाई सारी जिम्मेदारी ली जाएगी। सरकार कोरोना वॉरियर का काम करने वालों के लिए जो 25 लाख रुपए की बात की गई है। वह भी उन्हें मिले इसका भी प्रयास किया जाएगा।

मोबाइल के आधार पर 3 की शिनाख्त हुई

पानीगेट पुलिस स्टेशन के पीएसआई एफआर राठवा ने बताया कि तीनों युवकों को शहर से बाहर निकाले गए और उन्हें फिर पोस्टमार्टम के लिए बड़ौदा सरकारी अस्पताल भेजा गया। उनके पास से मिले मोबाइल और कुछ जरूरी दस्तावेज के आधार पर तीनों की शिनाख्त हुई और फिर उनके परिवार वालों से संपर्क कर उन्हें जानकारी दी गई।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments